गंगा बैराज को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की कवायद

कानपुर संवाददाता: गंगा बैराज में जल्द ही बोट क्लब की स्थापना होगी। यहां तैराकी का गुर सीखने के साथ ही लोग मौज मस्ती भी कर सकेंगे। तैराकी का गुर सिखाने और लोगों की सुरक्षा के लिए यहां 37 वीं वाहिनी पीएसी के जवान तैनात रहेंगे। इसके साथ ही उप्र कयाकिंग एवं कनोइंग संघ भी प्रतिभाओं को निखारेगा।

गंगा बैराजगंगा बैराज को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की कवायद युद्ध स्तर पर चल रही है। यहां करीब बॉटेनिकल पार्क का निर्माण 70 करोड़ रुपये से किया जा रहा है। पार्क में ड्राइविंग थियेटर के साथ ही शॉपिंग मॉल, झील समेत कई सुविधाएं होंगी। ऐसे में यहां भीड़ भी बढ़ेगी। यहां आने वाले लोग तैराकी का मजा भी ले सकें और जिन्हें तैराकी में अपना कॅरियर बनाना है, वे इसके लिए तैयार हो सकें इसी उद्देश्य से बोट क्लब की स्थापना की जा रही है। बोट क्लब के लिए वीआईपी घाट के नाम से घाट की स्थापना और सड़क का निर्माण किया गया है। क्लब के संचालन के लिए ही मंडलायुक्त की अध्यक्षता में स्पेशल परपज व्हीकल (एसपीवी) का गठन किया जाएगा। इसमें केडीए, नगर निगम, जिला प्रशासन के अफसरों के साथ ही

तैराकी के विशेषज्ञ और तैराकी संघ के पदाधिकारियों को सदस्य के रूप में नामित किया जाएगा।c मंडलायुक्त मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन की अध्यक्षता में सोमवार को उनके शिविर कार्यालय में आयोजित बैठक में तय किया गया कि पीएसी की एक प्लाटून यहां नियमित रहेगी। समग्र विकास समिति के समन्वयक नीरज श्रीवास्तव ने कहा कि जल क्रीड़ा केंद्र के संचालन के लिए उप्र कयाकिंग एवं कनोइंग संघ के अध्यक्ष आईपीएस अफसर आदित्य मिश्र ने सहमति दे दी है। संघ यहां अपनी एक शाखा भी खोलने को तैयार है। मंडलायुक्त ने कहा कि जल्द ही संघ के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर क्लब के संचालन पर चर्चा की जाएगी। बैठक में केडीए वीसी जयश्री भोज, पीएसी के सेनानायक केएस इमैनुअल, नगर निगम के मुख्य अभियंता तरुण शर्मा उपस्थित रहे।

ये बोट खरीदी जाएंगी क्लब में प्रशिक्षण के लिए कयाक, कनोय, रोइंग आदि बोट खरीदी जाएगी। इन्हीं बोट पर युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा ताकि वे ओलंपिक जैसी प्रतियोगिताओं में भाग ले सकें। मौज मस्ती करने वालों के लिए पैडल बोट, वाटर स्कूटर, मोटर बोट आदि बोट की खरीदारी होगी। नगर निगम और केडीए इसके लिए जल्द 25-25 लाख रुपये देंगे।

ये कार्य जल्द ही पूरे होंगे
सिंचाई विभाग वहां प्रकाश पोल, प्रवेश द्वार, रेलिंग बनाने का काम शुरू कर देगा। वस्त्र बदलने के लिए चेंजिंग रूम, उपकरण रखने के लिए शेड और कार्यालय की स्थापना का कार्य भी चार माह में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

ताकि घाट पर बना रहे पानी
क्लब स्थल पर सिंचाई विभाग ने घाट तो बना दिया है। वहां जाने के लिए सड़क भी बन गई है। घाट बने करीब छह माह हो गये हैं। पिछले कई महीनों से क्लब की फाइल बंद होने से अब वहां घास-फूस के जंगल हो गये हैं। अब फिर फाइल खुली है तो अब वहां अगले सप्ताह साफ सफाई की जाएगी। घाट तक पानी रहे इसके लिए भी सिंचाई विभाग गंगाबैराज खंड के अधिशासी अभियंता को कार्ययोजना बनाने के लिए कहा गया है।

Advertisements