कानपुर: इफ्तार के बहाने जमीन मजबूत करेगी आप

दिल्ली में बंपर कामयाबी के बाद आम आदमी पार्टी अब यूपी में ग्राउंड लेवल पर काम करने लगी है। पार्टी 5 जुलाई को कानपुर के चमनगंज में एक बड़ी इफ्तार पार्टी दे रही है। इसमें संजय सिंह, आशुतोष, जरनैल सिंह, कुमार विश्वास और दिल्ली के कैबिनेट मंत्री असीम अहमद शामिल होंगे। दावत में 10 हजार लोगों को जुटाने का टारगेट रखा गया है। सूबे में इस पार्टी की तरफ से यह अपनी तरह का पहला आयोजन है। पार्टी के अवध प्रांत के प्रवक्ता सभाजीत सिंह ने कहा कि यह रुटीन प्रोग्राम है और पार्टी जाति-धर्म की राजनीति नहीं करती है।

उत्तर प्रदेश में 2017 में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं। इसके लिए जहां समाजवादी पार्टी इमेज बिल्डिंग में लगी है, वहीं बीजेपी और बीएसपी भी कार्यकर्ताओं में जोश भर रही है। लेकिन शेष पार्टियों को झटका देने की कोशिश में आम आदमी पार्टी ने भी जोर लगाना शुरू कर दिया है। सूत्रों के अनुसार, 5 जुलाई को कानपुर के हलीम कॉलेज ग्राउंड में बड़ी इफ्तार दावत होगी। इसमें दिल्ली के टॉप लीडर्स के अलावा यूपी यूनिट के कई बड़े नाम मौजूद रहेंगे। तैयारियां जोर-शोर से शुरू कर दी गई हैं। पार्टी के बड़े नेता मोदी लहर के बाद यहां का माहौल देखना चाहते हैं।

उग्र हिंदुत्व का जवाब: जानकारों के अनुसार, पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने अप्रत्यक्ष रूप से उग्र हिंदुत्व को उभारा था। ऐसे में आप ने जवाबी हमले के लिए मुस्लिम समाज के करीब आने का रास्ता चुना है। बड़ी दावत से विरोधियों को यह संदेश भी पार्टी देना चाहती है कि उसका आधार भी तैयार है। वॉलंटियर्स की फोर्स भी तैयारियों में जुट गई है।

कानपुर में हुई थी पहली रैली: मार्च-2014 में लोकसभा चुनावों के ऐलान के तुरंत बाद अरविंद केजरीवाल ने कानपुर में रैली की थी। यह यूपी की पहली रैली थी। इस रैली में ही केजरीवाल ने लोगों से हाथ उठवाकर मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ने की परमिशन ली थी।

Advertisements