खुशखबरी :कांशीराम चिकित्सालय में दो नेत्र रोग विशेषज्ञ की तैनाती से मरीजों को मिलेंगी सुविधाएं

मोतियाबिंद एवं आंखों की जटिल बीमारी से पीड़ित मरीजों को उर्सला व हैलट का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। कांशीराम चिकित्सालय की ओपीडी में अब दो नेत्ररोग विशेषज्ञ हो गए हैं, जिससे अस्पताल में छह दिन नेत्र रोग की ओपीडी एवं सर्जरी होने लगी है। 1मरीजों के बढ़ते दबाव को देख सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं। पहले फिजीशियन, आथरेपेडिक, नार्मल एवं सीजेरियन प्रसव की व्यवस्था हुई। फिर दंत रोग, नाक-कान-गला एवं सर्जरी शुरू की गई।

फतेहपुर, बिंदकी, चकेरी एवं शहर दक्षिण के बाशिंदों को चिकित्सीय सुविधाएं मुहैया कराने के लिए छह वार्ड के कांशीराम चिकित्सालय एवं ट्रामा सेंटर की स्थापना जनवरी 2011 से हुई थी। ओपीडी से शुरू होकर अब बड़े-बड़े आपरेशन हो रहे हैं। हालांकि अस्पताल के वार्ड अभी बनकर तैयार नहीं हुए हैं, बावजूद इसके नार्मल एवं सीजेरियन प्रसव की संख्या बढ़ती जा रही है। आथरेपेडिक सर्जरी में सामान्य हाथ-पैर टूटने से लेकर घुटना व कूल्हा प्रत्यारोपण तक डॉक्टर कर रहे हैं। सीएमओ डॉ. आरपी यादव ने दो नेत्र सर्जन डॉ. डीवी सेठ एवं डॉ. स्वरूप मोहंती को तैनात कराते हुए नेत्र सर्जरी के लिए अलग आपरेशन थियेटर भी एलाट करा दिया है। इससे नेत्र रोग की ओपीडी भी छह दिन चलने लगी है। यहां अब आंखों के जटिल आपरेशन भी छह दिन होने के साथ मोतियाबिंद के आपरेशन भी रोजाना होने लगे हैं।

खुशखबरी :

Advertisements