सूबे में सबसे महंगी होगी कानपुर मेट्रो, 14 हजार करोड़ लागत

मेट्रो रेल सूबे में सबसे महंगी होगी। डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट के पहले तैयार ड्राफ्ट में परियोजना पर 14 हजार करोड़ खर्च का आकलन है। इसमें इस्तेमाल होने वाली जमीन की कीमत शामिल नहीं है। ड्राफ्ट के मुताबिक भूमिगत लाइन ज्यादा होने से परियोजना की कीमत बढ़ी है। लखनऊ में फिलहाल जो ट्रैक बन रहा है वह एलीवेटेड है। कानपुर में एलीवेटेड ट्रैक के लिए हर जगह सड़क नहीं है। इसके लिए कम से कम 80 फिट की सड़क हर तरफ होनी चाहिए। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लखनऊ में मेट्रो के शिलान्यास के बाद कानपुर, आगरा, इलाहाबाद व वाराणसी में मेट्रो चलाने की घोषणा की थी। इन शहरों में डीपीआर तैयार हो रही है। इसमें कानपुर आगे है। यहां की परियोजना का ड्राफ्ट पहले ही तैयार किया जा चुका है। लखनऊ मेट्रो के पहले चरण में 32 स्टेशन और दो रूट रखे गए हैं जिनकी कुल लंबाई लगभग 34 किलोमीटर है जबकि कानपुर मेट्रो में भी दो रूट हैं मगर कुल लंबाई लगभग 29.5 किलोमीटर। हालांकि स्टेशनों की संख्या में कोई खास अंतर नहीं है। वहां भूमिगत लाइन लगभग नौ किलोमीटर ही है। इसलिए भी यहां की लागत बढ़ गई है। लखनऊ मेट्रो पर 12500 करोड़ खर्च हो रहे हैं।

d112102004

Advertisements