कानपुर। डांडिया संग झूमा शहर

हाई वोल्टेज म्यूजिक पर इंडियन आइडियल फेम नेहा चौहान की सुरीली आवाज पर गरबा की तान छिड़ते ही डांडिया की मस्ती सातवें आसमान पर पहुंच गई। गरबा से शुरू हुई अलबेली डांडिया नाइट एक के बाद एक गरबा और गीतों की लड़ी में बुनती चली गई। उम्र की सीमा टूट गई। बच्चे, बुजुर्ग, युवा सभी डांडिया की मस्ती में झूमते नजर आए। यह मनोरम छटा रविवार की रात गैंजेस क्लब में देर रात तक छाई रही।इससे पूर्व नाइट का उद्घाटन डीआईजी नीलाब्जा चौधरी, शुद्ध पान मसाला के कुंवर खेमका, यश द्विवेदी ने दीप प्रज्‍जवलित कर किया। नाम रे हो तेरा नाम की धुन के बीच नेहा के आते ही फैंस ने डांडिया लड़ाकर जोश दिखाया। नेहा ने भी यू आर रेडी कानपुर कहकर फैंस का उत्साह बढ़ाया। फिर क्या केसरिया रंग मैने लाग्यो रे गरबा, पंखुड़ा, पंखुड़ा रे उड़ जा, मधुवन में जो कन्हैया पिय से मिले एक के बाद एक गीतों पर डांडिया की आवाज तेज होती है। दिन भर की थकान, तनाव को भूलकर जैसे-जैसे डांडिया दीवाने रमते गए वैसे-वैसे मस्ती बढ़ती गईं। बालीवुड के गीत मनचाहे तो आ जा रसिया, मंगता है तो आ जा रसिया, परदेशिया यह सच है पिया जैसे एक के बाद एक गीत देर रात तक गूंजते रहे और कदम थमने का नाम नहीं ले रहे थे। लाइट के खास इफेक्ट से जगमग मंच पर फीवर 95 महा रेडियो के आरजे रघु रफ्तार ने फैंस को आवाज दी तो सब हाथ उठाकर झूम उठे। एंकर मल्लिका श्रीवास्तव ने भी दर्शकों को खूब बांधे रखा। एक्सपर्ट की टीम ने डांडिया में झूम रहे लोगों पर नजर रखी

डांडिया नाइट में गुजरात की पारंपरिक वेशभूषा की भी खूब झलक देखने को मिल रही थी। महिलाएं व लड़कियां गुजरात की पारंपरिक लहंगा-चोली में थी, तो पुरुष कुर्ता-पायजामा व गुजराती पगड़ी में डांडिया नाइट के लिए पूरी तरह से तैयार हो कर आए थे।

कानपुर। डीआईजी नीलाब्जा चौधरी ने दशहरा और मोहर्रम के त्योहार में शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने पर कानपुर की जनता का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने हिन्दुस्तान के सामाजिक सरोकार से जुड़े कार्यो की सराहना की। उन्होंने कहा कि मस्ती मार्ग जैसे कार्यक्रम से शहर के लोगों की सेहत के प्रति जागरूकता बढ़ी है।

%e0%a4%a1%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%a1%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%b8%e0%a4%82%e0%a4%97-%e0%a4%9d%e0%a5%82%e0%a4%ae%e0%a4%be-%e0%a4%b6%e0%a4%b9%e0%a4%b0

d92046240 d92046694

Advertisements