प्रदूषण के प्रति जागरूक स्कूल प्रबंधन ने पेश की अनूठी मिसाल

कानपुर. दिल्ली और आगरा के बाद कानपुर में जहरीली हवा और धुंध का खौफ छाया है। प्रदूषण से बच्चे और बुजुर्ग सबसे ज्यादा बेहाल हो रहे हैं। कानपुर में प्रदूषण के प्रति जागरूक एक स्कूल प्रबंधन ने एक अनूठी मिसाल पेश की है। प्रदूषण से बचाने और इसकी रोकथाम करने के लिए छात्रों को जागरूक करने के लिए एक स्कूल प्रबंधन ने इंटर तक के स्टूडेंट को मास्क पहनने के आदेश दिए हैं। स्कूल के सभी बच्चे और टीचर मास्क लगा कर स्कूल पहुंचे । हालाँकि अभी शासन की तरफ से प्रदूषण के प्रति कोई अलर्ट जारी नहीं हुआ है।
पनकी इलाके में चंद्रशेखर आजाद इंटर कालेज के प्रबंधन ने बच्चों को वायु प्रदूषण और जहरीली हुयी हवा से पैदा होने वाली गंभीर बीमारियों से बचाने के लिए एक अनूठी मिसाल पेश की है। स्कूल में पीजी से लेकर इंटर तक के बच्चो को मास्क पहन कर विद्यालय में आने के आदेश दिए हैं। स्कूल विद्यार्थी मास्क पहन कर पढऩे पहुंचे। बच्चों ने मास्क पहन कर प्रेयर की और क्लास में मास्क लगा कर पढ़ाई की। अध्यापक और अध्यापिकाओं ने भी मास्क लगा कर बच्चों को पढ़ाया। जागरूक स्कूल प्रबंधन की तरफ से एक और अनूठी मिसाल देखने को मिली। विद्यालय प्रवंधन ने गरीब बच्चों को 150 से जय़ादा मास्क विद्यालय की ओर दिए गए।
अध्यापक रेखा और श्याम मोहन सिंह के मुताबिक दिवाली के बाद से मौसम में आये बदलाव से वायु प्रदूषण इतना दुष्प्रभावी और जहरीला हो गया है कि बच्चों को बीमारियां घेर रही हैं, जिसमे आँखों में जलन, अस्थमा, सांस लेने में तकलीफ , हृदय रोग, खांसी, बुखार आदि का सामना करना पड़ रहा। बड़ी संख्या में बच्चे बीमार हो रहे हैं।
 school-kanpur
अभिभावक से लेकर खुद छात्र भी हो रही बीमारियों को लेकर परेशान है
स्टूडेंट आकृति दीक्षित और तनिष्क भदौरिया के मुताबिक दीवाली में फोड़े जाने पटाखों की वजह से हमारे वायुमंडल में धुंध छाई है। इससे बचने के लिए हमारे प्रिंसिपल सर ने हमें मास्क पहनकर स्कूल आने के लिए कहा है। स्कूल के डायरेक्टर कैलाश बाजपाई के मुताबिक लगातार वायु मंडल में जहरीली गैसे घुल रही है, जिसकी वजह से बच्चो को साँस लेने में दिक्कत हो रही है। हमारे यहाँ छोटे-छोटे मासूम बच्चे पढऩे आते हैं, उनकी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए हमने उन्हें मास्क पहनने के आदेश दिए हैं, ताकि वह किसी प्रकार कि बीमारी की चपेट में न आयें। स्कूलों में जहां गरीब बच्चों की फीस न जमा होने पर बच्चों को स्कूल से निकाल दिये जाने के मामले आये दिन देखने की मिलते हैं वहीं इस स्कूल के प्रबन्धन ने बिना सरकारी आदेश और सरकारी मदद के गरीब बच्चों को सैकड़ों की संख्या में निशुल्क मास्क बाँट कर अपने स्कूल के बच्चों के स्वास्थ के प्रति जागरूकता की अनूठी मिसाल पेश की है।

 

Advertisements