नोट एक्सचेंज को बैंकों में लगीं ग्राहकों की कतारें

कानपुर. पांच सौ और एक हजार रुपये के नोट बंदी के बाद पहली बार गुरुवार को खुली बैंकों में नोट बदलने के लिए भारी भीड़ इक_ा हो गई, जिससे कई बैंकों में नोंकझोंक व मारपीट तक की घटनाएं सामने आईं। हालांकि सभी बैंकों में सुरक्षा को देखते हुए पुलिस बल तैनात किए गए हैं। पीएम नरेन्द्र मोदी द्वारा मंगलवार को काले धन पर की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से जहां बुधवार पूरा दिन लोगों में बड़े नोटों के बंद को लेकर चर्चा होती रही। तो वहीं गुरुवार को सुबह सात बजे से लोग बैंकों में नोट बदलने के लिए इक_ा होने लगे।
आलम यह रहा कि सुबह से ही बैंकों पर भारी भीड़ जमा हो चुकी थी। इस दौरान न तो किसी को नाश्ते की फि चिंता थी और न ही चाय की। लोगों के चेहरों पर साफ दिख रहा था कि वे नोटों को लेकर कितना परेशान हैं। काकादेव एसबीआई शाखा में अपनी बारी का इंतजार कर रहे रावतपुर निवासी अभिषेक शर्मा ने बताया कि घर में राशन नहीं है और छोटी नोट न होने से पूरा परिवार परेशान है। भले ही पांच घंटे का समय बर्बाद हो जाय कम से कम दो हजार रुपए से बच्चों को राशन तो मिल जाएगा। कमोवेश यही हाल इलाहाबाद बैंक, यूनियन बैंक, बैंक आफ बड़ौदा, पंजाब नेशनल बैंक की सभी शाखाओं में रहा। बढ़ती भीड़ को देखते हुए एसएसपी आकाश कुलहरि ने सभी बैंकों की शाखाओं में अतिरिक्त फोर्स लगा दिए थे।
नेपाली बोला दो दिन से रोटी नहीं मिली
आरबीआई के बाहर सैकड़ों की संख्या में ग्राहकों की भीड़ सुबह से लग गई थी। बैंककर्मी की अडिय़ल रवैया के चलते लोगों को काफी समस्या उठानी पढ़ी। नेपाल से अपनी बहन के देवर की शादी मे आए हुसैन अहमद ने बताया कि वह दो दिन खुले से पैसे न होने के चलते घर वापस नहीं जा सके। सुबह नेपाल का पहचान पत्र लेकर बैंक की शाखा में आया, लेकिन चार घंटे बीत जाने के बाद भी नंबर नहीं आया।
खोले गए अतिरिक्त काउंटर
उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए बैंकों में अतिरिक्त काउंटर खोले गए हैं। अमूमन
जहां शाखाओं में दो या तीन काउंटर होते थे। गुरुवार को किसी में पांच तो किसी
आठ-नौ तक काउंटर देखे गये। निजी बैंक की शाखाओं ने भी भीड़ को देखते हुए
काउंटरों में बढ़ोत्तरी की है।
नोंकझोंक और हुई मारपीट
बैंक शाखाओं में लंबी-लंबी लगी कतारों से कई जगहों पर लोग आपस में उलझते नजर
आये। तो वहीं आवास विकास नंबर तीन की यूनियन बैंक शाखा में लाइन को लेकर
धर्मेन्द्र शुक्ला सैफी व लक्ष्मी के बीच मारपीट तक हो गई। मौके पर मौजूद
पुलिस कर्मियों ने दोनों पक्षों को किसी तरह से शांत कराया।
इन चीजों की मांग
हर बैंक शाखा में नोट बदलने व नए नोट लेने वालों के लिए पासबुक, आधार कार्ड,
वोटर आईडी, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस पहचान के तौर पर मांगे जा रहे हैं।
Advertisements