शहर में सरपट दौड़े यूपी-100 के हाईटेक वाहन

पुलिस लाइन में शनिवार को फ्लैग ऑफ सेरेमनी के बाद शहर में यूपी 100 के नए वाहन निकल पड़े। शहर को इसमें 44 इनोवा और 16 बोलेरो वाहन सौंपे गए। कार्यक्रम की शुरुआत में कुछ स्कूलों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश कर वहां उपस्थित अतिथियों की तालियां बटोरीं। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर कर एवं निबंधन मंत्री यासर शाह मौजूद रहे। जेल मंत्री बलवंत सिंह रामूवालिया कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हो सके। सांस्कृतिक कार्यक्रम से हुई शुरुआत कार्यक्रम में एक के बाद एक कमिश्नर मोहम्मद इफ्तेखारूद्दीन, आईजी जोन जकी अहमद, डीआईजी रेंज राजेश डी मोदक, डीएम कौशल राज शर्मा समेत विधायक और नेतागण पहुंचे। कार्यक्रम की शुरुआत ज्ञन निकेतन हाई स्कूल से हुई। यहां बच्चों के ग्रुप ने अमन की चिड़िया नाम से कार्यक्रम पेश किया। इसके बाद आरोह और गौरवांजलि संस्था के अंतर्गत एनयू पब्लिक स्कूल के बच्चों ने कार्यक्रम पेश किया। ऑक्सफोर्ड स्कूल के बच्चों ने अपने कार्यक्रम में सर्जिकल स्ट्राइक दिखाकर लोगों को खड़े होकर ताली बजाने पर मजबूर कर दिया। कार्यक्रम का संचालन अनुराग श्रीवास्तव ने किया। सबसे आखिरी में उरई से आए साठ छोटे बच्चों के ग्रुप ने गायन पेश कर सभी की वाहवाही बटोरी। इस दौरान शाम 4:07 बजे मुख्य अतिथि कर एवं निबंधन मंत्री यासर शाह पहुंचे।

dial-100

मुख्य अतिथि यासर शाह ने कहा कि सरकार ने बहुत बड़ा कदम उठा दिया है। विपक्षी म्याऊं, म्याऊं करते रहे या फिर कुछ और खोजे। यूपी 100 के साथ पुलिस तकनीक की दुनिया में काफी आगे बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि अत्याधुनिक कंट्रोल रूम को अमरिका में कॉल 911 से प्रेरणा मिली है। हमारे यहां के वरिष्ठ अधिकारी अमेरिका से प्रशिक्षण लेकर लौटे हैं। हमने बड़ी योजना तैयार कर दिखा दी।

कमिश्नर मोहम्मद इफ्तेखारुद्दीन ने कहा कि उत्तर प्रदेश की सुरक्षा व्यवस्था को एक जगह केन्द्रीयकरण कर देना बहुत बड़ा काम है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश हो या कानपुर हर एक इंसान इमान पसंद है। आईजी जोन जकी अहमद ने कहा कि यह तो बहुत अत्याधुनिक कंट्रोल रूम बन गया है। हम जब पढ़ते थे तो डायल 100 का मतलब नहीं समझते थे। अच्छी पुलिसिंग करने के लिए रिलाएबल डायल 100 जरूरी है।

एसएसपी आकाश कुलहरि ने यूपी 100 के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इससे ज्यादा आधुनिक और क्या हो सकता है। उन्होंने जानकारी दी कि शहर को यूपी 100 के नए वाहन मिले हैं जिसमें शहर में घटना स्थल पर पहुंचने का समय दस मिनट और ग्रामीण क्षेत्रों में बीस मिनट का रखा गया है। एसएसपी ने कहा कि वर्तमान में लोग एसएमएस, व्हाट्सएप, ट्यूटर और ईमेल के जरिये भी शिकायत दर्ज करा एफआईआर करा सकते हैं। इस डायल 100 में जब पीड़ित फोन करेगा तो घटनास्थल से सबसे करीब जो वाहन होगा वह सबसे पहले पहुंचेगा।

इसके बाद मंत्री यासर शाह ने राजेश गुप्ता, बरसाती, मनोज गुप्ता, राजेन्द्र सोनकर, अशोक गुप्ता समेत 20 लोगों को ई रिक्शा की चाबियां सौंपी। वहीं विकास और गुलाब सिंह समेत दस किसानों को राहत राशी (2200 रुपए प्रति हेक्टेयर) का प्रमाण पत्र दिया। आखिरी में मुख्य अतिथि ने हरी झंडी दिखाकर वाहनों को रवाना किया।

 

Advertisements