कोहरे पर भारी पड़ेगी ‘उड़ान’

msid-55152769width-400resizemode-4flightकानपुर : उड़े देश का आम नागरिक यानी उड़ान, भारत सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत शहर को मिली दिल्ली की फ्लाइट कोहरे पर भारी पड़ सकती है। बिगड़ते मौसम को देखते हुए एयरपोर्ट अथारिटी ने जहां उड़ान का समय दोपहर का रखा है, वहीं अहिरवां एयरपोर्ट पर मौजूद आईएलएस कैट वनन की सुविधा और एयर इंडिया के एयरक्राफ्ट एटीआर-72 की तकनीक कोहरे को मात देने में सक्षम हैं। हालांकि डीजीसीए की टीम अभी कोहरे और अपनी तकनीक की क्षमता का आकलन कर रही है लेकिन माना जा रहा है कि दस दिसंबर को भारत सरकार कानपुर से इस सेवा को शुरू कर देगी।

कानपुर : उड़े देश का आम नागरिक यानी उड़ान, भारत सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत शहर को मिली दिल्ली की फ्लाइट कोहरे पर भारी पड़ सकती है। बिगड़ते मौसम को देखते हुए एयरपोर्ट अथारिटी ने जहां उड़ान का समय दोपहर का रखा है, वहीं अहिरवां एयरपोर्ट पर मौजूद आईएलएस कैट वनन की सुविधा और एयर इंडिया के एयरक्राफ्ट एटीआर-72 की तकनीक कोहरे को मात देने में सक्षम हैं। हालांकि डीजीसीए की टीम अभी कोहरे और अपनी तकनीक की क्षमता का आकलन कर रही है लेकिन माना जा रहा है कि दस दिसंबर को भारत सरकार कानपुर से इस सेवा को शुरू कर देगी।

कानपुर : उड़े देश का आम नागरिक यानी उड़ान, भारत सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत शहर को मिली दिल्ली की फ्लाइट कोहरे पर भारी पड़ सकती है। बिगड़ते मौसम को देखते हुए एयरपोर्ट अथारिटी ने जहां उड़ान का समय दोपहर का रखा है, वहीं अहिरवां एयरपोर्ट पर मौजूद आईएलएस कैट वनन की सुविधा और एयर इंडिया के एयरक्राफ्ट एटीआर-72 की तकनीक कोहरे को मात देने में सक्षम हैं। हालांकि डीजीसीए की टीम अभी कोहरे और अपनी तकनीक की क्षमता का आकलन कर रही है लेकिन माना जा रहा है कि दस दिसंबर को भारत सरकार कानपुर से इस सेवा को शुरू कर देगी।

कानपुर : उड़े देश का आम नागरिक यानी उड़ान, भारत सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत शहर को मिली दिल्ली की फ्लाइट कोहरे पर भारी पड़ सकती है। बिगड़ते मौसम को देखते हुए एयरपोर्ट अथारिटी ने जहां उड़ान का समय दोपहर का रखा है, वहीं अहिरवां एयरपोर्ट पर मौजूद आईएलएस कैट वनन की सुविधा और एयर इंडिया के एयरक्राफ्ट एटीआर-72 की तकनीक कोहरे को मात देने में सक्षम हैं। हालांकि डीजीसीए की टीम अभी कोहरे और अपनी तकनीक की क्षमता का आकलन कर रही है लेकिन माना जा रहा है कि दस दिसंबर को भारत सरकार कानपुर से इस सेवा को शुरू कर देगी।

Advertisements