धूल फांकते हुए बीते तीन साल

कानपुर : दिन बीतते गए और देखते ही देखते तीन साल गुजर गए। कंपनी बाग से बैराज तक की सड़क बनना तो दूर अभी खोदाई ही बंद नहीं हुई है। यहां के लोग उबड़-खाबड़ सड़क से उड़ती धूल से होकर गुजरने को मजबूर हैं। जल निगम के अभियंताओं और ठेकेदारों के खेल से क्षेत्रवासी फंस गए हैं। पहले पाइप डालने के लिए सड़क खोदी बाद में लीकेज ठीक करने के लिए। घटिया पाइप को छिपाने के लिए खोदाई करते रहे और अभी भी कर रहे हैं। फिलहाल मुसीबत दूर होते नहीं दिख रही है। कंपनी बाग चौराहे से विष्णुपुरी होते हुए बैराज तक जल निगम ने तीन साल पहले पेयजल पाइप डालने शुरू किए थे। इस रोड पर मकानों के साथ ही कई अपार्टमेंट, स्कूल व प्रतिष्ठान हैं। पॉश इलाका होने के बावजूद भी हालात गांव से बदतर है। क्षेत्र में हर वक्त धूल का गुबार बना रहता है। सांस लेना दूभर हो गया है। बारिश में सड़क कीचड़ में बदल जाती है। तब इस मार्ग से स्कूलों के बच्चों का निकलना खतरनाक हो जाता है।

d4218

Advertisements