मोदी ने कहा- हमारा एजेंडा है काला धन बंद हो, विपक्ष का एजेंडा है संसद बंद हो

pm-modi-51482145177_bigकानपुर.नरेंद्र मोदी ने यहां सोमवार को परिवर्तन रैली को संबोधित किया। मोदी ने कहा, ”कांग्रेस द्वारा राजनीतिक पार्टियों के हिसाब-किताब के लिए बनाए कानून में हमारी सरकार ने फुल स्टॉप, कॉमा को भी हाथ नहीं लगाया।” बता दें कि इससे पहले ये खबर आई थी कि नोटबंदी के बाद सियासी दलों के खातों में चाहे जितनी भी रकम जमा हुई हो, उसकी जांच नहीं की जाएगी। इससे मोदी सरकार के रुख पर सवाल उठने लगे थे। हालांकि, शनिवार को अरुण जेटली ने रियायत देने वाली खबरों को नकारा था। रेवेन्यू सेक्रेटरी हसमुख अधिया ने भी ट्वीट कर कहा था- ”राजनीतिक दलों को दी जा रही कथित छूट से संबंधित रिपोर्ट्स गलत और भ्रामक हैं।” आखिर कितना झूठ बोलेंगे वो…
– रैली में मोदी ने कांग्रेस को जवाब देते हुए कहा- राजीव गांधी पीएम थे, तो कंप्यूटर लाए- मोबाइल लाए। अब जब मैं कहता हूं कि मोबाइल का बैंक बना लो कहते हैं कि मोबाइल तो है ही नहीं। आखिर कितना झूठ बोलेंगे वो?
– सरकार द्वारा हाल ही में ई-ट्रांजेक्शन पर घोषित किए इनामों की जानकारी दोहराते हुए पीएम ने कहा- अरबपतियों और खरबपतियों के लिए ये इनाम नहीं है। आम लोग भी मोबाइल फोन से लेन-देन शुरू करें। देश में फिर काला धन नहीं आएगा।
– मोदी ने कहा, ”एक तरफ विरोधी कहते हैं कि जनता का खाता नहीं, दूसरी तरफ कहते हैं कि लोग लाइन में खड़े हैं। सच बताओ और कोई एक बात कहो। जिसका खाता नहीं वो बैंक की लाइन में क्यों खड़ा होगा?”
अच्छे-अच्छों का खेत खत्म
नोटबंदी के विरोधियों पर तंज कसते हुए मोदी ने कहा – लोगों का क्या कुछ सहना पड़ा है। इसका मुझे अंदाज है। मैंने पहले ही कहा था कि ये सब 50 दिन चलेगा। इसके बाद कठिनाइयां कम हो जाएंगी। एक फैसले से अच्छे – अच्छों के खेल खत्म हो गए। वो कम बता के फंस गए।
– किसानों का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा- यूरिया की नीम कोटिंग की गई है। ताकि इसका इस्तेमाल सिर्फ खेत में हो सके। लाखों बच्चों की जिंदगी बचाई।
छोटे नोट वाले पूजे भी जा रहे हैं और पूछे भी जा रहे हैं
मोदी ने कहा- नोटबंदी के बाद कैसे-कैसे लोगों के पसीने छूट गए हैं। अमीर लोग गरीबों के घर के आगे कतार लगा के खड़े हैं। 1000 की नोट थी तो कोई 100 वालों को पूछता नहीं था। अब छोटे नोट वाले पूजे भी जाते हैं और पूछे भी जाते हैं।
पीएम ने कहा, इलेक्शन कमीशन से आग्रह है कि वो इस फैसले को आगे बढ़ाए। हमारी सरकार सही बात का साथ देगी। क्योंकि भ्रष्टाचार और कालेधन की लड़ाई जीतनी है। क्योंकि इसकी वजह से गरीब हमेशा गरीब ही रहा। सिपाही बनकर देश के उज्जवल विकास के लिए काम करें।
– मोदी ने कहा, ऑल पार्टी मीटिंग में मैंने कहा था कि देश की जनता को ईमानदारी का संदेश देना चाहिए। लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ होने चाहिए। ये बात राष्ट्रपति जी भी ने कही थी। आए दिन चुनाव के कारण गांवों में विकास की यात्रा रुक जाती है। तनाव पैदा होता है। लेकिन सदन चलने नहीं दिया गया।
यूपी में परिवर्तन की आंधी
– मोदी ने कहा- जिनको बेईमानी की आदत पड़ी है, देश को उनसे कोई अपेक्षा नहीं है। यूपी में परिवर्तन की आंधी क्यों आई है? यहां के लोग गुंडागर्दी से तंग आ चुके हैं। मकान और जमीन छीन ली जाती है। अब सामान्य आदमी कहां जाएगा। जब तक यहां सरकार नहीं बदलेगी तब तक ये जारी रहेगा।
पीएम ने कहा- हमारा एजेंडा भ्रष्टाचार बंद हो, कालाधन बंद हो लेकिन उनका एजेंडा है संसद बंद हो। राष्ट्रपति की बात नहीं सुनी। अब तक जिन्होंने देश चलाया उनको हिसाब देना महंगा पड़ रहा है। स्पीकर पर कागज फेंके गए। म्यूनिसिपल के लोग भी ऐसा करने से पहले सोचते हैं।
Advertisements