CM अखिलेश ने बनवाया भारत का पहला वर्ल्ड क्लास बस स्टेशन

लखनऊ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज यहां लखनऊ के आधुनिक वर्ल्ड क्लास कैसरबाग बस अड्डे का लोकार्पण किया। इसके साथ ही उन्होंने 5-5 लोहिया ग्रामीण एवं साधारण बसों को रवाना किया।

नवनिर्मित माॅडर्न बस स्टेशन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार ने हवाई अड्डों की तर्ज पर परिवहन निगम के बस अड्डों को विकसित करने की शुरुआत कर दी है। उन्होंने कहा कि लोहिया ग्रामीण परिवहन सेवा, ग्रामीण क्षेत्रों और विशेष रूप से किसानों को राहत पहुंचाने के लिए ही चलायी जा रही है।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश परिवहन निगम द्वारा हर साल 54 करोड़ से अधिक यात्रियों को बस यात्रा की सुविधा उपलब्ध करायी जाती है। इसी कड़ी में आज लगभग 10 करोड़ रुपए की लागत से विकसित किए गए कैसरबाग माॅडर्न बस स्टेशन को लोकार्पित किया गया है। यह प्रदेश का पहला बस स्टेशन है, जो पूरी तरह से वातानुकूलित है। बस स्टेशन में दिव्यांगों के प्रवेश हेतु अलग से मार्ग बनाए गए हैं। यात्रियों की सुरक्षा के लिए 32 सीसी टीवी कैमरे, आधुनिक रेस्ट्रां, शौचालय, आधुनिक वेटिंग रूम आदि की व्यवस्था की गई है। साथ ही, बस स्टेशन की बिजली व्यवस्था को सुदृढ़ एवं आत्मनिर्भर बनाने के लिए 40 किलोवाॅट बिजली उत्पादन क्षमता का सोलर पावर प्लांट भी लगाया गया है।

इस प्रकार समाजवादी सरकार जनता को अच्छी तकनीक आधारित आधुनिक परिवहन सेवाएं उपलब्ध कराने का पूरा प्रयास कर रही है। लोहिया ग्रामीण परिवहन सेवा की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि ग्रामीण यात्रियों को शिक्षा, कारोबार एवं रोजगार के अवसरों से जोड़ने के लिए, तहसील, जनपद एवं मण्डलीय मुख्यालयों से ग्रामीण अंचलों को जोड़ते हुए यह सेवा संचालित की जा रही है।

international-bus-stand-700x500उन्होंने बताया कि इस परिवहन सेवा का किराया साधारण किराए से 25 फीसदी कम रखा गया है। इस परिवहन सेवा के तहत बड़ी संख्या में बसों का संचालन किया जा रहा है। इन बसों में ग्रामीण यात्रियों की सुविधा के लिए उनके उत्पाद ले जाने की पर्याप्त व्यवस्था भी की गई है। इनकी बढ़ती मांग को देखते हुए समाजवादी सरकार ने लोहिया ग्रामीण बसों की खरीद के लिए इस साल 100 करोड़ रुपए की व्यवस्था की है।

परिवहन निगम द्वारा बस यात्रियों को उपलब्ध करायी जा रही सुविधाओं का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बस स्टेशनों पर स्वच्छ पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए वाॅटर एटीएम मशीन लगाने का काम भी किया जा रहा है। पूछताछ के लिए आधुनिक स्वचलित आईटीएमएस योजना लागू की गई है। उन्होंने कहा कि कैसरबाग माॅडर्न बस स्टेशन उत्तर प्रदेश परिवहन निगम का पहला चरण है। इस कार्य को लगभग सभी बस अड्डों तक ले जाने के लिए निगम के अधिकारी एवं कर्मचारी लगातार काम करते रहेंगे।

कैसरबाग बस अड्डा प्रदेश का ही नहीं देश का सबसे आधुनिक बस अड्डा बन गया है। बस अड्डे को सभी अत्याधुनिक तकनीक और सुविधाओं से लैस किया गया है, जहां आम जनता से लेकर दिव्यांगों का भी पूरा ख्याल रखा गया है।

बस अड्डे को वर्ल्डक्लास की श्रेणी में लाने के लिए बस अड्डे को फुल एयरकंडीश्नर बनाया गया है जिसके लिए बस स्टेशन पर भारी मात्रा में एसी लगाए गए हैं। दिव्यांगों के लिए खासतौर पर बस स्टॉप पर लिफ्ट भी लगाई गयी है। साथ ही यात्रियों की सुविधा के लिए पार्किंग से बस अड्डे व फूड कोर्ट पर जाने के लिए भी लिफ्ट लगाई गयी है।

यात्रियों की सुविधा के लिए आधुनिक वेटिंग रूम का निर्माण किया गया है। सामान्य क्षेणी के पैसेंजर, वाल्वो व प्रीमियर बसों के पैसेजरों के लिए अलग-अगल आधुनिक वेटिंग ऐरिया का निमार्ण किया गया है। साथ ही विभाग के कर्मचारियों के लिए भी वेटिंग एरिया का निर्माण किया गया है जहां पर वे आराम कर सकेंगे।

यात्रियों को बेहतर सुविधाएं देने के लिए स्टेशन पर ही शॉपिंग मॉल का निर्माण किया गया है जिसमें आठ दुकानें हैं। खाने-पीने की बेहतर सुविधा के लिए फूड प्लाजा का निर्माण भी किया गया है। यात्रियों की सुविधा के लिए आधुनिक टायलेट का निर्माण किया गया है। बस अड्डे की पीछे की तरफ यात्रा से वापस आई हुई गाड़ियों के लिए एक वाशिंग बेस का भी निर्माण किया गया है, जिससे अगली यात्रा के लिए गाड़ियां साफ-सुथरी होकर यात्रियों के लिए उपलब्ध कराई जा सकेंगी। साथ ही पूरे परिसर को सीसीटीवी कैमरों से लैस किया गया है।

बसटेशन पर ऐसा रैंप बनाया गया है जिससे चार पहिया गाड़ी सीधे स्टेशन तक पहुंच सकेगी। इससे यात्रियों को छोड़ने के लिए आने वालों को गाडी़ पार्क करने के लिए पार्किंग का सहारा नहीं लेना पड़ेगा। स्टेशन पर लगने वाले गेट ऑटोमेटिक हैं जो मात्र एक ही ओर खुलेंगे मतलब की एंट्री का गेट अंदर की ओर व एग्जिट का गेट बाहर की ओर ही खुलेगा।

बस अड्डे के अन्दर यात्रियों के लिए शॉपिंग मार्केट, क्लॉक रूम का निर्माण भी कराया गया है। बस अड्डे परयात्रियों को वाईफाई की सुविधा के साथ ही एयरपोर्ट की तर्ज पर ट्रॉली की सुविधा भी मिलेगी।

सबसे खास बात ये है कि कैसरबाग बस अड्डे पर 40 किलो वॉट का सोलर पैनल लगाया गया है जो स्टेशन की बिजली की आवश्यकता की पूर्ती करेगा। इससे जहां एक ओर निगम खुद बिजली का निर्माण करेगा वहीं निगम सालाना लाखों रूपय के बिजली के बिल के भुगतान से भी बचेगा।

Advertisements