शाबाश कानपुर फिर जीता दिल

rouraरूरा हादसे के बाद शहरवासियों ने एक बार फिर एकजुटता दिखाई। सामाजिक संगठन, नागरिक, हैलट प्रशासन और पुलिस-प्रशासन के अधिकारी, सभी घायलों के साथ आ गए। पीड़ितों को दिक्कत न होने पाए, इसकी पूरी तैयारी भी कर ली गई थी। पुखरायां की तरह इस बार भी कनपुरियों ने खूब सेवाभाव दिखाया। सुबह ट्रेन हादसा होने के बाद ही डीएम कौशलराज शर्मा ने हैलट प्रशासन से सम्पर्क किया। पीड़ितों के लिए तत्काल 100 बेड की इमरजेंसी वार्ड नम्बर 1 और 2 में तैयार कराया गया। ¨प्रसिपल के निर्देशों के बाद 150 सीनियर रेजीडेंट डाक्टर, 150 जूनियर रेजीडेंट डाक्टरों और 125 नर्सो की टीम ने चिकित्सा से जुड़ी चीजों को सम्भाला। सारे विशेषज्ञ डाक्टरों को भी अलर्ट कर दिया गया।नागरिक सुरक्षा के पचास से ज्यादा लोगों ने इमरजेंसी के बाहर की व्यवस्था को अपने हाथों में लिया। पुलिस के साथ मिलकर एम्बुलेंस लाने का रास्ता बनाना, इमरजेंसी गेट के बाहर एक बार में सात स्ट्रेचरों को हमेशा बनाए रखने की जिम्मेदारी नागरिक सुरक्षा ने उठाई। इसके बाद आरएसएस, सामाजिक संगठनों और कुछ मुस्लिम समुदाय के संगठन भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने चाय, पानी और नाश्ते की जिम्मेदारी उठाई। सुबह से शाम तक तीनों चीजें बराबर पीड़ितों के साथ आए परिवारीजनों के बीच बंटती रही। एसएसपी आकाश कुलहरि भी दोपहर तक हैलट पहुंचे और घायलों का हाल जाना। एसएसपी ने वहां पर्याप्त फोर्स लगा दी ताकि पीड़ितों को दिक्कत न हो।
helping-hands

आधे घंटे में पहुंच गईं आपदा और बचाव की टीमेंd121831294
img_58651f681bf30

Advertisements