डफरिन अस्पताल में वसूली पर हंगामा

99992869136डफरिन अस्पताल में चल रही डॉक्टरों की मनमानी सोमवार को उजागर हो गई। तीमारदारों ने जब उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य सीमा यादव के सामने दर्द बयां किया तो वो हैरत में पड़ गईं। औचक निरीक्षण के दौरान ओपीडी गईं तो महिला डॉक्टर नदारद थीं। अल्ट्रासाउंड के नाम पर गर्भवती महिलाओं को टरकाया जा रहा था। कई ने जांच के नाम पर वसूली का भी आरोप लगाया। न्यू ओपीडी ब्लॉक के चिकित्साधिकारी कक्ष संख्या सात में जब सीमा पहुंचीं तो वहां डॉक्टर नहीं थीं। चौबेपुर की अंजना, रुबीना समेत कई गर्भवती महिलाओं ने सुबह से खड़े होने के बावजूद डॉक्टर के न होने की शिकायत की। अधीक्षिका डॉ. नीता चौधरी ने तुरंत फोन करके सबंधित डॉक्टर को बुलाया तो उन्होंने गोलमोल जवाब दिया। अल्ट्रासाउंड कक्ष में रजिस्टर देखते ही लाइन में खड़ी मधु निगम, मंजू और वर्षा समेत दो दर्जन से ज्यादा महिलाओं ने हंगामा कर दिया। उन्होंने कहा कि एक पखवाड़े बाद की तारीखें दी जा रही हैं, ब्ली¨डग के बाद भी अल्ट्रासाउंड नहीं किए जा रहे हैं। कई बार चक्कर लगाने के बावजूद अल्ट्रासाउंड नहीं किए जाते हैं। आयोग की सदस्य से जांच के नाम पर अवैध वसूली का आरोप लगाया और पैसा न देने पर भगाने की शिकायत भी की। इस पर सीमा यादव भड़क गईं और गंभीर गर्भवती महिलाओं का तुरंत अल्ट्रासाउंड करने के साथ ही सरकारी जांच फीस का बोर्ड लगाने का आदेश दिया।बाथरूम से चीख पड़ी गर्भवती: जांच रूम से निकलते ही सीमा बाथरूम का निरीक्षण करने पहुंचीं तो दोनों अंदर से बंद थे। वह बाहर की ओर जा रही थीं तभी बाथरूम के अंदर से दरवाजा पीटने और चिल्लाने की आवाज आई तो वह चौंककर पलटीं। बाथरूम के दरवाजे को धक्का देकर खोला गया तो एक महिला उसमें फंसी हुई थी। दरवाजे खराब और बाथरूम गंदे पड़े थे। उन्होंने सफाई का आदेश दिया।%e0%a4%85%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%aa%e0%a4%a4%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%85%e0%a4%b2%e0%a5%8d%e0%a4%9f%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%89%e0%a4%82%e0%a4%a1

डफरिन के अंदर बने रैनबसेरा में गंदगी का अंबार मिला। किचेन में 108 एम्बुलेंस के कर्मचारी कब्जा जमाए बैठे थे। यहां सब्जी से लेकर अन्य सामान रखा हुआ था। फेथफुलगंज निवासी तीमारदार श्रीराम बोले, रात में सोने के लिए आए तो भगा दिया गया, कहा गया कि यह रैनबसेरा कर्मचारियों के लिए है। ऐसे में उसने बाहर खुले में रात गुजारी।

डफरिन में पार्किग की समस्या को देखते हुए सीएमओ डॉ. रामायण यादव ने बताया कि जल्द ही पुरानी ओपीडी बिलिं्डग वाली जगह में मल्टीलेवल पार्किग और कर्मचारियों के आवास बनाए जाएंगे। न्यू ओपीडी को वार्ड से जोड़ने के लिए रैंप बनेगा। अभी अस्पताल में 210 बेड हैं। 100 बेड की एक मैटरनिटी ¨वग प्रस्तावित है।

Advertisements