पंजाब, हरियाणा के रंग में रंगा कानपुर

d138101340कानपुर – सीएसजेएमयू में 32 वें नार्थ जोन अंतर विवि युवा महोत्सव की रंगारंग शुरूआत धूम-धाम से हुई। इस युवा महोत्सव में आये 7 राज्यों के 31 विविद्यालयों संबद्ध टीमों ने पहले दिन विवि गेट से लेकर आडीटोरियम तक कल्चरल मार्च पास्ट निकाला। मार्च पास्ट में शामिल सभी टीमें अपने-अपने विवि के बैनरों व क्षेत्रीय परिधानों में बहुरंगी रमणीय दृश्य प्रस्तुत नाचते-गाते हुए आडीटोरियम तक पहुंचे। इस कार्यक्रम के चलते पूरा विवि परिसर में सोमवार को उत्सवमय दिखा व यहां भारतीय संस्कृति की झलक देखने को मिली।रंगारंग मार्च पास्ट की अगुवाई कुलपति प्रो.जेवी वैशम्पायन सहित अन्य शिक्षकों-अधिकारियों ने की व पीछे विभिन्न विविद्यालयों से आये विद्यार्थी शामिल रहे। तत्पश्चात युवा महोत्सव के उद्घाटन समारोह में सीएसजेएमयू के कुलपति प्रो.जेवी वैशम्पायन ने कानपुर को शिक्षा हब बताते हुए कहा कि यहां कई राष्ट्रीय महत्व के शैक्षिक संस्थान हैं। उन्होंने इस पर खुशी जतायी कि यहां 33 विविद्यालयों से संबद्ध युवाओं की जुटान हुई है। उन्होंने कहा कि देश भर के विविद्यालयों से चयनित प्रतिभावान युवाओं का समागम जनवरी में कोल््हापुर में होने वाले अखिल भारतीय विवि युवा समागम में होगा। उन्होंने विास जताया कि यह मंच विद्यार्थियों में निहित प्रतिभाओं को निखारने में महत्वपूर्ण योगदान करेगा। उन्होंने प्रतिभागियों से खेल व मैत्री भावना से प्रतिभाग करने की अपेक्षा की।विवि के प्रति कुलपति प्रो.आरसी श्रीवास्तव ने विभिन्न राज्यों से आये प्रतिभागियों को उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि खेल भावना ने प्रतिस्पर्धाओं में भाग लेने व अनुशासन में रहने की सलाह दी। विवि के डीन छात्र कल्याण प्रो.संजय कुमार श्रीवास्तव ने प्रतिभागियों-पदाधिकारियों को स्वागत किया।

99992868749अखिल भारतीय विवि संघ के संयुक्त सचिव डॉ.सैम्पसन डेविड ने इस अवसर पर कहा कि अखिल भारतीय विवि युवा महोत्सव की शुरुआत वर्ष 1985 में हुई। इसका उद्देश्य राष्ट्रीय सद्भाव व एकीकरण की भावना को बढ़ावा देते हुए विभिन्न सांस्कृतिक क्षेत्रों के प्रतिभाओं को मंच प्रदान करना है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2007 में सीएसजेएमयू की सुगंधा मिश्रा ने अखिल भारतीय विवि युवा महोत्सव में प्रतिभाग कर नृत्य विद्या में राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त की। कई प्रतिभायें राष्ट्रीय स्तर पर चुनकर आकाशवाणी व दूरदर्शन के कर्यक्रम भी प्रस्तुत कर रहे हैं। विवि के कल्चरल कोआर्डिनेटर व कार्यक्रम समन्वयक डॉ.आरपी सिंह व पर्यवेक्षक प्रो.सुशील कुमार शर्मा ने भी उद्घाटन सत्र को संबोधित किया। इस अवसर पर रजिस्ट्रार आरसी अवस्थी, परीक्षा नियंत्रक राज बहादुर यादव तथा उप कुलसचिव उमानाथ, रणजीत यादव व विनय सिंह सहित अन्य अधिकारी-शिक्षक-कर्मचारी भी मौजूद रहे।उद्घाटन सत्र के बाद सायंकाल ग्रुप सांग इंडिया के तहत भारतीय समूह गान का आयोजन किया गया, जो बड़ा मनभावन रहा। ग्रुप सांग का यह कार्यक्रम करीब घंटे भर तक चला। कल से विभिन्न सांस्कृतिक विद्याओं में प्रतिस्पर्धा का दौर चलेगा। युवा महोत्सव का समापन 6 जनवरी को होगा। उसी दिन विजेता प्रतिभागियों व टीमों के नामों की घोषणा की जायेगी। 32 वें नार्थ जोन अंतर विवि युवा महोत्सव के तहत सात राज्यों से संबद्ध विभिन्न विविद्यालयों से संबद्ध करीब 1200 कलाकार प्रतिभागी यहां जुटे हैं। इस युवा महोत्सव में मुख्यत पांच सांस्कृतिक विद्याओं म्यूजिक, डांस, थियेटर,लिटरेरी इवेंट्स व फाईन आर्टस के विभिन्न क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धाएं होंगी। प्रत्येक विवि से 40-40 विद्यार्थियों के समूह को यहां बुलाया गया है। इसके अलावा उनके सहयोगी व टीम मैनेजर भी शामिल हैं।

सीएसजेएमयू से इस युवा महोत्सव में 40 विद्यार्थियों की टीम शामिल होगी, जिसमें से 4 परिसर के तथा शेष संबद्ध कॉलेजों के हैं।सभी प्रतियोगितायें विवि परिसर में ही विभिन्न स्थानों पर करायी जायेंगी। प्रतिभागियों व उनके सहयोगियों को भी परिसर में ही ठहराया जायेगा। खान-पान बंदोबस्त के तहत पेड कैंटीन, नैसकैफे व मोबाइल स्वल्पाहार वेन्डर्स की व्यवस्था की गयी है। युवा महोत्सव में भाग लेने बाहर से आने वाले प्रतिभागी दलों के स्वागत के लिए कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर बनाये जाने वाले स्वागत बूथ भी बनाया गया है।तबले की थाप, ढोलक,मंजीरे की धुन और सुर-ताल के अद्भुत समागम से विश्वविद्यालय का हर कोना गूंज उठा। पंजाब, कश्मीर, हिमांचल प्रदेश के छात्रों की विभिन्न परिधान देखने लायक थी। मौका था सोमवार को छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय में 32वें नार्थ जोन यूथ फेस्टिवल के आगाज का। इसमें सात राज्यों के 27 विश्वविद्यालयों ने भाग लिया। कुलपति प्रो.जेबी वैशम्पायन की अगुवाई में विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार से रूट मार्च निकाला गया। माहौल ऐसा था कि हर कोई उसकी एक झलक पाने को बेताब रहा। सभी टीमों ने अपने राज्य और टाइटल गीत पर डांस कर आगाज किया। गुरुनानक देव यूनिवर्सिटी अमृतसर ने ‘चल मेले नू चलिए’ गीत गाया। हिमांचल प्रदेश यूनविर्सिटी शिमला ने ‘नीरू चली घूमरी शिमला बाजार’.,जामिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी ने ‘दयारे शैक मेरा शेरे आरजू मेरा.’ गीत गाया। महाराज रंजीत सिंह पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी ने ’ गिद्दे विच जब मैं नच्चा सूरज भी मथ्था टेकता’.गीत गाकर सभी का अभिवादन दिया। पहले दिन सभी टीमों ने देर शाम तक सामूहिक गीत (भारतीय) में अपनी प्रतिभा दिखाई। इस मौके पर सेमसन डेविड , प्रति कुलपति प्रो. आरसी कटियार, रजिस्ट्रार रामचंद्र अवस्थी, समन्वयक डॉ. आरपी सिंह, परीक्षा नियंत्रक राजबहादुर यादव, डीआर रणजीत यादव, प्रो. सुभाष अग्रवाल, प्रो. संजय श्रीवास्तव, प्रो. संजय स्वर्णकार, प्रो. मुकेश रंगा, डॉ. संदीप सिंह, डॉ. नीरज सिंह रहे।

 

d138100720इस बार ये टीमें हुई शामिल : पंजाब विवि (चंडीगढ़), स्वामी विवेकानंद सुभारिती(मेरठ),जामिया स्लामिया(दिल्ली), गुरुनानक देव विवि (अमृतसर), चौ. देवी लाल विवि(सिरसा),ईके गुजराल पंजाब टेक्निकल विवि(जालंधर), हिमांचल प्रदेश विवि, श्रीमाता वैष्णो देवी विवि (कटरा) श्रीगुरु ग्रंथ साहिब वल्र्ड विवि (फतेहगढ़ साहिब), एमआरएसपीटी विवि (भ¨ठडा), जम्मू विवि, डीसीआरयूएसटी (मुरथल) सोनीपथ, कुरुक्षेत्र विवि, पंजाब विवि (पटियाला), एएमयू, अलीगढ़, एमडीयू रोहतक, शारदा विवि ग्रेनो, गुरुअंगद देव वेटनरी विवि (फिरोजपुर), मोनाद विवि हापुड़, दून विवि देहरादून, डीईआई, आगरा, चौ. रणवीर सिंह विवि (हरियाणा), गढ़वाल विवि(श्रीनगर), लवली प्रोफेशनल विवि (पंजाब),पंजाब एग्री कल्चर यूनिवर्सिटी लुधियाना, अंबेडकर विवि आगरा, कश्मीर यूनिवर्सिटी ।

Advertisements