6.72 लाख वाट की रोशनी में आज टी-20

d142000736गणतंत्र दिवस पर ग्रीनपार्क में इतिहास बनने जा रहा है। मैदान पर पहली बार अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच डे-नाइट भारत और इंग्लैंड के बीच है। 6.72 लाख वाट की दूधिया रोशनी में दोनों टीमें खेलेंगी। कनपुर के लोगों के लिए यह किसी रोमांच से कम नहीं है। पिच क्यूरेटर शिव कुमार ने बताया कि मैदान पर फ्लड लाइट के चार पोल लगे हैं। प्रत्येक पोल पर 84 लाइटें लगी हैं। यानी चारों पोलों पर 336 लाइटें। एक लाइट दो हजार वाट की है। एक घंटे में एक पोल पर 20 हजार का खर्च : पिच क्यूरेटर ने बताया कि एक पोल की फ्लड लाइट जलाने के लिए 256 किलोवाट का जेनरेटर लगा होता है। एक घंटे में चारों पोलों को मिलाकर करीब 300 लीटर डीजल एक घंटे में खर्च होता है। ऐसे में तकरीबन 20 हजार रुपए का खर्च प्रति घंटा फ्लड लाइट को जलाने में आता है। 16 साल बाद पहली बार हुआ फ्लड लाइटों का उपयोग : 2002 में स्टेडियम में फ्लड लाइटें लगीं थीं। तब करीब छह करोड़ का खर्च आया था। उसके बाद हर साल करीब दस लाख रुपए लाइटों की मेंटीनेंस में लगता था। हालांकि यूपीसीए के मुताबिक कई सालों तक कोई मेंटीनेंस नहीं किया गया था। आईपीएल मैचों के पहले एक करोड़ रुपए लाइटों की मरम्मत में लगा था।

टी-20 मैच को लेकर शहर में सट्टा बाजार गर्म है। सट्टा बाजार में भारतीय कप्तान विराट कोहली का भाव सबसे ज्यादा है। वहीं सुरेश रैना, युवराज सिंह, केदार जाधव, समेत इंग्लैंड के कप्तान पर भी सटोरियों दांव लगा रहे हैं। मैच के शुरू से लेकर आखिरी बॉल तक सटोरी दांव लगाएंगे। इसी के चलते खुफिया एजेंसियां भी सक्रिय हो गई हैं। शहर में बड़े पैमाने पर सट्टा चलता है। ग्रीन पार्क में इसके पहले हुए आईपीएल, टेस्ट और वनडे मैचों में भी सटोरियों ने अपने बाजार को बखूबी चलाया। उस दौरान दर्जनों सटोरियों को पुलिस दबोचा था लेकिन टी-20 मैच में सटोरी फिर से सक्रिय हो गए हैं। चूंकि कप्तान विराट कोहली पिछले कई सालों से बेहतरीन फार्म में हैं। इस वजह से कोहली के भाव सट्टा बाजार में ऊंचे हैं। वहीं भारतीय टीम लगातार इंग्लैंड के खिलाफ दो सिरीज अपने नाम कर शानदार प्रदर्शन किया है। ऐसे में सटोरी भारतीय टीम पर दांव लगाना ज्यादा बेहतर समझ रहे हैं। हाल में केदार जाधव ने जिस तरह आक्रमक खेल दिखाकर अंग्रेजों के छक्के छुड़ाए थे। इसी वजह से सट्टा बाजार में केदार का भी नाम गूंज रहा है। वहीं फार्म में लौटे युवराज सिंह, रैना, भी सटोरियों की निगाह में हैं। सटोरिये के सक्रियता को देखते हुए आईबी और एंटीकरप्शन की टीमों ने डेरा डाल दिया है। एंटी करप्शन की टीम गुपचुप तरीके से सटोरियों की तलाश कर रही है। सूत्रों के मुताबिक सटोरियों के पकड़े जाने पर कार्रवाई भी हो सकती है।

d142412598

d142001356

d142465104
99992955468

Advertisements