हाईवे से हटे तो स्कूलों के पास खुले ठेके

कानपुर दक्षिण : गुजरात और बिहार की तर्ज पर अब शहर की भी महिलाएं शराब बंदी को लेकर आंदोलित होती नजर आ रही हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हाईवे से हटकर स्कूलों के पास और बस्ती में खुलने वाले शराब ठेकों का विरोध इसकी नजीर है। रविवार को इसी कड़ी में बिधनू, बिठूर, जूही, बर्रा और चकेरी में कई जगह शराब ठेका संचालकों को विरोध का सामना करना पड़ा। बिधनू और बिठूर में संचालक के ठेका खोलने की कोशिश पर भीड़ उग्र हो गई। पुलिस को बीच बचाव करना पड़ा। जूही में ठेके के बाहर छेड़खानी के विरोध में महिलाओं ने ठेके पर तोड़फोड़ भी की।

मंधना में शराब ठेका खोलने पर लगाया जाम:जीटी रोड पर मंधना रेलवे स्टेशन के पास देसी शराब ठेके के साथ ही रीता त्रिवेदी की वाइन शॉप और दीपक चतुर्वेदी की मॉडल शॉप थी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इन दुकानों को मंधना-बिठूर रोड पर शिफ्ट कर दिया गया। रविवार सुबह दुकान खुलते ही नशेबाजों का जमावड़ा लगना शुरू हो गया। जिस पर मधु द्विवेदी, नूतन पाठक, रीता अग्निहोत्री, संगीता तिवारी और प्रभा द्विवेदी सहित पचास से अधिक महिलाओं ने दुकानें बंद कराने को लेकर हंगामा कर दिया। महिलाओं का आरोप है कि ठेका संचालक ने रिवाल्वर दिखा उन्हें धमकाने का प्रयास भी किया। इस दौरान महिलाओं ने कई शराब की बोतलें तोड़ दीं। साथ ही डायल-100 की गाड़ी का घेराव करते हुए मंधना-बिठूर रोड पर जाम लगा दिया। एसओ जितेंद्र सिंह ने तीनों ठेके बंद करा स्थानांतरित कराने का आश्वासन दिया, तब जाकर महिलाएं शांत हुईं। इलाकाई लोगों का कहना है कि तीनों शराब ठेके हरगोविंदपुर मोहल्ले में आसपास हैं। यहां से चंद कदम की दूरी पर प्रभात पब्लिक स्कूल, ब्रrावर्त डिग्री कालेज और महादेवी शिक्षा निकेतन स्कूल है।

बर्रा में ढोलक-मंजीरा बजा शराब बंदी की आवाज उठाई:बर्रा क्षेत्र के तात्याटोपे नगर में अजय तिवारी के मकान में रमन अग्निहोत्री ने अंग्रेजी शराब का ठेका खोलने के लिए दुकान किराए पर ली थी। इसकी भनक लगने पर रविवार को क्षेत्रीय पार्षद मनीष शर्मा के साथ महिलाओं ने मकान के बाहर रखा शराब ठेके का फर्नीचर तोड़ दिया। सुषमा सिंह, सुमन द्विवेदी, मंजूलता कटियार, सीमा पाल, डॉ. सपना, रामदुलारी, काजल, सुभाषिनी, माधुरी त्रिपाठी आदि महिलाओं ने ठेके के साथ ही प्रदेश में शराब बंद करने की मांग करते हुए ढोलक-मंजीरा, थाली बजा नारेबाजी की। उनका कहना था कि शराब ने कई घर उजाड़े हैं, इसका बंद होना जरूरी है।

बिधनू में लाठी लेकर बंद कराया ठेका:किदवई नगर में रहने वाले बनवारीलाल स्वामी को बिधनू कस्बे में देसी और अजय स्वामी को अंग्रेजी शराब का ठेका आवंटित हुआ है। रविवार सुबह सेल्समैन गेंदालाल व सतीश ठेका खोलने पहुचे तो महिलाओं ने ग्राम प्रधान पवन चंदेल के साथ लाठी-डंडा लेकर ठेके का शटर बंद करा दिया। इतना ही नहीं उन्होंने ठेके के बाहर लगे बोर्ड को भी गिरा दिया। ग्रामीणों के मुताबिक शराब ठेका जहां खोला गया है, वहीं नजदीक ही प्राइमरी स्कूल, मंदिर और निर्माणाधीन लॉ कालेज है।

जूही में छेड़छाड़ के विरोध में ठेके में तोड़फोड़: जूही गोस्वामी नगर में राम कुमार के मकान में देसी शराब ठेका है। रविवार को तीन महिलाएं मंदिर जा रही थीं। तभी ठेके पर खड़े नशेबाजों ने छेड़छाड़ कर दी। कंट्रोल रूम को सूचना दी गई, लेकिन पुलिस नहीं पहुंची। इस पर लक्ष्मी यादव, नीतू सिंह, मुन्नी, गीता, गुड़िया, प्रेमा, उमा, राहुल, रीता, गुड्डू, सोनू, सुशीला आदि ने नारेबाजी कर शराब ठेके में तोड़फोड़ कर दी। पुलिस भी पहुंच गई। इंस्पेक्टर आरसी मिश्र ने समझा-बुझाकर मामला शांत कराया।

 

चकेरी में शराब की पेटियां सड़क पर फेंकीं:चकेरी की कोयला नगर चौकी के सामने स्थित देसी शराब ठेका को गणोशपुर मोड़ पर खोलने की तैयारी हो रही थी। इसकी जानकारी होते ही वहां आसपास की महिलाएं लाठी-डंडे लेकर आ गईं और दुकान में घुसकर शराब की पेटियां बाहर फेंक दीं। इसके बाद डंडों से शराब की बोतलें चकनाचूर कर दीं। लोगों ने कहा कि इस ेठेके को अन्यत्र शिफ्ट कराया जाए। पुलिस ने सभी को शांत कराया और दुकान न खोलने के निर्देश दिए। वहीं दुकानदार प्रदीप जायसवाल ने लूट का आरोप लगाया, लेकिन पुलिस के तहरीर मांगने पर बाद में देने की बात कह चला गया। उधर सनिगवां अन्ना चौराहे के पास अंग्रेजी शराब की दुकान खोले जाने पर जमकर हंगामा हुआ। लोगों ने शराब ठेका खोले जाने को लेकर प्रदर्शन किया और इसे अन्यत्र शिफ्ट करने की मांग की। इस पर पुलिस ने वहां भी दुकान न खोलने के निर्देश देते हुए लोगों को शांत कराया।

Advertisements