जाम में जकड़ा बेकनगंज बाजार

कानपुर : हर वर्ष रमजान-उल-मुबारक के 15 दिन बीत जाने के बाद बेकनगंज बाजार में हजारों लोगों की भीड़ ईद की खरीदारी के लिए उमड़ती है। ऐसे में बेकनगंज पुलिस रूपम चौराहा से यतीमखाना तक चार पहिया वाहनों पर रोक लगा देती है, लेकिन इस बार पुलिस ने जैसे व्यवस्था से पल्ला झाड़ लिया है। पूरा बाजार भीषण जाम में जकड़ा रहता है। 1 चमनगंज रूपम चौराहे से बेकनगंज, तलाक महल होते हुए यतीमखाना चौराहे तक तीन सौ से अधिक ई-रिक्शा मुसीबत बन गए हैं। अगर गरीब नवाज मस्जिद के पास हलीम चौराहे पर ई रिक्शा अपनी सवारी उतार दें तो बाजार जाम से बच जाए। यही हाल दूसरी ओर है, अगर तलाक महल में ई रिक्शा वाले सवारी उतार दें तो जाम नहीं लगे, लेकिन ये ई रिक्शा पानी की टंकी तक सवारी लेकर जबरन घुस रहे हैं, जिससे घंटों जाम लग रहा है। सर्वाधिक दिक्कत शाम चार बजे से शाम साढ़े छह और रात आठ बजे से रात एक बजे तक है। डा. बेरी चौराहे पर बिरयानी खाने वालों के दो पहिया एवं चार पहिया वाहन सड़क तक खड़े रहते हैं, ऐसे ही रहमानी मार्केट के सामने भी पूरी सड़क घिरी रहती है। तलाक महल, डॉ. बेरी चौराहे जाम देख लोग दादा मियां चौराहे होते हुए निकलने की कोशिश कर रहे हैं, जिससे ये मार्ग भी बुरी तरह जाम में फंस रहा है। बेकनगंज थानाध्यक्ष का कहना है कि ज्यादा भीड़ बढ़ने पर वाहनों को रोका जाएगा।

बड़ी ईदगाह में तैयारी, बगाही को भूल गए

कानपुर :ईद की नमाज की तैयारियों को लेकर प्रशासन के अफसरों ने सारी ताकत बड़ी ईदगाह में ही लगा रखी है। शहर के अन्य ईदगाह को भूल गए। बगाही ईदगाह की बात करें तो यहां भी ईद की नमाज के लिए कम भीड़ नहीं होती। लेकिन, यहां तैयारियां गायब हैं और अव्यवस्था कायम है। रविवार को दैनिक जागरण ने बगाही ईदगाह की व्यवस्था पर नजर फेरी तो यहां कूड़ा पटा पड़ा है। इसके अलावा ईदगाह के अंदर बड़े बड़े गड्ढे हैं। क्षेत्रीय लोग परेशान हैं कि ऐसी स्थिति में नमाज कैसे अदा करेंगे। पिछली बार बारिश के कारण ईदगाह के अंदर नमाज नहीं हो पायी थी। बकरमंडी स्थित बड़ी ईदगाह में ईद हो या बकरीद, जिलाधिकारी, आइजी, डीआइजी, नगर आयुक्त, एडीएम से लेकर सारे अधिकारी और जन प्रतिनिधि मौजूद रहते हैं। यही कारण है कि केस्को, नगर निगम, जलकल अधिकारी यहां की व्यवस्था पर अधिक जोर देते हैं।

चमनगंज में 28 घंटे बिजली गुल, फूटा गुस्सा

कानपुर : शहर को 24 घंटे बिजली देने की व्यवस्था पर फाल्ट ग्रहण बने हुए हैं। मंगलवार को चमनगंज में फाल्ट की वजह से 28 घंटे बिजली गुल रही तो लोगों का सब्र जवाब दे गया और हंगामा करते हुए जाम लगा दिया। हालांकि इसी बीच फाल्ट ठीक होने से आपूर्ति शुरू हो गई वलोग शांत हो गए। 1आजाद नगर सब स्टेशन से चमनगंज को आपूर्ति दी जाती है। सोमवार शाम पौने पांच बजे पालीटेक्निक के पास अंडर ग्राउंड सप्लाई लाइन के तीन फेस फुंक गए। इसके चलते चमनगंज, सईदाबाद, शफियाबाद, मौला दूध का चौराहा, मोहम्मद अली पार्क, प्रेम नगर, अजमेरी चौराहा, हलीम कालेज, फहीमाबाद, नश्तर चौराहा, नाला रोड, संपत पहलवान चौराहा समेत कई क्षेत्रों में बिजली गुल हो गई। अंडर ग्राउंड लाइन में फाल्ट होने से इसे सही करने में 24 घंटे लग गए। शाम पांच बजे फाल्ट ठीक करके जैसे ही सप्लाई शुरू की गई, ओवरलोडिंग के चलते फीडर से शटडाउन लेना पड़ा। 15 मिनट बाद फिर आपूर्ति शुरू हुई तो चमनगंज में एचटी लाइन का तार टूटकर गिर गया। फिर बिजली चली जाने से लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और वे घरों से बाहर निकल आए। हंगामा करते हुए संगीत टाकीज चौराहे पर जाम लगा। कुछ लोग सब स्टेशन पहुंच गए तो बिजली कर्मचारी भाग खड़े हुए। सूचना पर पुलिस व केस्को अफसर पहुंचे तो भीड़ ने उन्हें घेर लिया। इसी बीच नौ बजे फाल्ट ठीक हो गया और सप्लाई शुरू हो गई। बिजली आते ही लोग शांत हो गए और घरों को लौट गए।

मस्जिदों में नहीं बचा पानी : जामा मस्जिद शफियाबाद, गुलाब घोसी मस्जिद, सईदाबाद मस्जिद, नूर मस्जिद, हलीम प्राइमरी मस्जिद, गरीब नवाज मस्जिद, घड़ी वाली मस्जिद समेत 35 मस्जिदों में मंगलवार को पानी नहीं मिला।यहां भी रहा संकट : नौबस्ता के दबौली में विद्युत पोल बदलने की वजह से अपराह्न् ढाई बजे से रात दस बजे तक बिजली गुल रही। इसकी वजह से हमीरपुर रोड, बसंत विहार, दबौली आदि क्षेत्र प्रभावित रहे। पांडु नगर में केबिल फाल्ट के चलते अपराह्न् ढाई से तीन बजे तक बिजली नहीं आई।चमनगंज स्थित अजमेरी चौक पर बिजली न आने से नाराज क्षेत्रीय नागरिकों ने किया हंगामा ’कानपुर: केस्को ने अपने सभी प्रीपेड उपभोक्ताओं के लिए रीचार्ज सुविधा सरल कर दी है। स्थायी उपभोक्ताओं के बाद अब अस्थायी उपभोक्ता भी ऑनलाइन रीचार्ज से जोड़ दिए गए हैं। कानपुर शहर में अगस्त 2015 से शुरू हुआ प्रीपेड मीटर का सफर धीरे-धीरे बढ़ रहा है। नियामक आयोग के ों के बाद केस्को ने एक जून 2017 से अपने 800 स्थायी प्रीपेड मीटर उपभोक्ताओं के लिए ऑनलाइन रीचार्ज की व्यवस्था शुरू की थी। अब केस्को ने प्रीपेड मीटर की ऑनलाइन रीचार्ज सुविधा से अपने अस्थायी उपभोक्ताओं को भी जोड़ दिया है। केस्को में प्रीपेड का उपयोग करने वाले लगभग 800 स्थायी और दो हजार अस्थायी उपभोक्ता हैं। उपभोक्ता को केस्को की वेबसाइड पर जाकर प्रीपेड मीटर रिचार्ज के ऑप्शन का प्रयोग करना होगा। जैसे ही भुगतान करेंगे, एक टोकन जनरेट होगा, जिसमें एक नंबर लिखा होगा। इस नंबर को अपने प्रीपेड मीटर में डालते ही मीटर रीचार्ज हो जाएगा। अधिशासी अभियंता विवेक अग्रवाल ने बताया कि अब सभी प्रीपेड उपभोक्ता इस सुविधा का लाभ उठा सकेंगे। उपभोक्ताओं को यूनिट टैरिफ में सवा फीसद का लाभ भी दिया जा रहा है।जागरण संवाददाता, कानपुर : बिजली के मीटर अब घरों के अंदर नहीं बल्कि बाहरी दीवार पर लगाए जाएंगे। मंगलवार को पॉवर कापरेरेशन के अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान दिए गए ों के बाद केस्को ने ‘आपरेशन सैनीटेशन’ चलाने का फैसला लिया है।

पॉवर कापरेरेशन के अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में एमडी आशुतोष निरंजन, डायरेक्टर आरबी यादव, चीफ इंजीनियर योगेश हजेला शामिल हुए। अधिशासी अभियंता विवेक अग्रवाल ने बताया कि पॉवर कापरेरेशन के आदेश पर ‘आपरेशन सैनीटेशन’ चलाने का फैसला लिया गया है। सैनीटेशन का मतलब साफ सफाई से है। बिजली के संबंध में इसका अर्थ बेहतर प्रबंधतंत्र से है। इसके तहत पहला काम होगा बिजली का मीटर घरों से बाहर लगाना। वर्तमान में नए मीटर घरों के बाहर लगाए जा रहे हैं। पुराने कनेक्शन के लगभग आधे मीटर घरों के अंदर लगे हैं। अभियान चलाकर ऐसे मीटर बाहर लगवाए जाएंगे। वहीं, अभी उपभोक्ता का रिकार्ड फीडरवार है, जिसे अब पोलवार तैयार किया जाएगा। हालांकि पहले फेज में ट्रांसफार्मरवार रिकार्ड बनेगा। जूनियर इंजीनियर सर्वे कर अपने क्षेत्रों का रिकार्ड तैयार करेंगे। इससे बिजली चोरी और लोड की समस्या से निजात पाई जा सकेगी। वहीं जिस तरह सरकारी कार्यालयों पर बिजली का हजारों करोड़ रुपये बकाया है, उससे यहां प्रीपेड मीटर की व्यवस्था शुरू की जा सकती है। मंगलवार को चर्चा रही कि महकमे ने इसके लिए कमर कस ली है और जल्द ही प्रक्रिया भी शुरू की जा सकती है।दस रुपये में बिका एक बाल्टी पानी,बिजली की आंखमिचौली ने लोगों का जीना दूभर कर दिया है। सबसे ज्यादा परेशानी सहरी और इफ्तार में हो रही है। चमनगंज में बिजली न होने से लोगों ने मंगलवार को 10 रुपये प्रति बाल्टी पानी खरीदा।

 

Advertisements