शहर भर की ईदगाह व मस्जिदों में ईद-उल-फितर की नमाज में उमड़ा जनसैलाब

कानपुर : शहर भर की ईदगाह व मस्जिदों में सोमवार को ईद-उल-फितर की नमाज में जनसैलाब उमड़ पड़ा। नमाज से पूर्व में गद्दियाना ईदगाह के इमाम मौलाना हाशिम अशरफी ने कहा कि आतंकवादियों के बहकावे में आकर आत्मघाती हमला करने वाले इंसानियत के दुश्मन हैं। ये अच्छी तरह से जान लें कि आत्मघाती हमले करने से जन्नत नहीं मिलने वाली, उनकी मौत हराम है। 1मौलाना हाशिम अशरफी ने अपनी में पिछले दिनों मक्का में हुए हमले की भी निंदा की। कहा कि कुरआन में साफ है कि जो लोग जानबूझकर अपनी जान देते हैं या एक भी इंसान का कत्ल करते हैं, ऐसे लोग पूरी इंसानियत के कातिल हैं। ऐसे लोगों से सलाम, कलाम बंद कर दें और उनसे कोई रिश्ता नहीं रखें।

बड़ी ईदगाह बकरमंडी में पेशइमाम मौलाना मोहम्मद शकील ने दुआ में कहा कि ऐ खुदा, इतनी भीषण गर्मी में भी रोजेदारों ने आपको राजी करने के लिए खाना पानी सब छोड़ दिया, इन रोजों के लिए दुनिया में अमन कर दीजिये। लोग एक दूसरे से आपस में मिलकर मोहब्बत से रहें, नफरत मिटा दें। जो इंसानियत के दुश्मन हैं, वो सीधे रास्ते पर चलें। बगाही ईदगाह में मुफ्ती मोहम्मद अहमद, मछरिया ईदगाह में मुफ्ती इसराफील मदारी, नवाबगंज ईदगाह में हाफिज जावेद आलम बरकाती, अर्मापुर स्टेट ईदगाह में मौलाना मुश्ताक अहमद मुशाहिदी, जाजमऊ ईदगाह में कारी हसीब अख्तर शाहिदी, उस्मानपुर ईदगाह में मौलाना मोईनुद्दीन कादरी ने नमाज अदा कराई। नमाज के बाद लोगों ने गले लगाकर मुबारकबाद दी और एक-दूसरे के यहां सिंवई खाने गए। चमनगंज, बेकनगंज, नई सड़क, बाबूपुरवा, बेगमपुरवा, मछरिया, जाजमऊ, कर्नलगंज अदि क्षेत्रों में मेले का आयोजन भी हुआ। 


Advertisements