टमाटर के रिटेल दामों में अचानक आई तेजी

टमाटर के रिटेल दामों में अचानक आई तेजी से सरकार भी परेशान हो गई है। अलर्ट हो चुके खाद्य मंत्रालय ने टमाटर की सप्लाई के आंकड़े मंगाए हैं। मौजूदा समय में उत्तर भारत के कई प्रमुख बाजारों में टमाटर की कीमत पिछले तीन दिनों में चार गुना तक बढ़ गई है।

अचानक आई तेजी
दिल्ली की आजादपुर मंडी में टमाटर के भाव दो दिन पहले 10 रुपये से 15 रुपये के बीच थे। लेकिन, बुधवार को ये भाव क्वॉलिटी के हिसाब से 40 रुपये से 65 रुपये पर जा पहुंचे। कारोबारियों का कहना है कि इसका अहम कारण है कि टमाटर की सप्लाई में कमी। हरियाणा के अलावा उत्तर भारत और दक्षिण भारत में भी बारिश के कारण टमाटर की फसल बर्बाद हुई है जिससे सप्लाई घटी है। हरियाणा के अलावा अमरोहा, मुरादाबाद, बरेली आदि उत्तर प्रदेश के सब्जी उत्पादक जिलों में टमाटर की फसल बारिश के कारण बर्बाद होने की खबरें हैं।

नैशनल हॉर्टिकल्चर बोर्ड के जॉइंट डायरेक्टर बिजेंद्र सिंह का कहना है कि पता लगाया जा रहा है कि कितनी जगहों पर टमाटर की कितनी फसल बर्बाद हुई है। उसके बाद सप्लाई का आकलन किया जाएगा। हालांकि होर्टिकल्चर बोर्ड के अनुमान के मुताबिक इस साल देश में कुल 187 लाख टन टमाटर होने की उम्मीद है जो पिछले साल से करीब 15 फीसदी अधिक है।15 से 20 रुपये प्रति किलो बिकने वाला टमाटर 40 से 65 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गया है। कई रिटेल मार्केट में कीमतें 100 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई हैं। एनबीटी से बातचीत में खाद्य मंत्री राम विलास पासवान ने कहा कि ऐसा लग रहा है कि यह सीजनल तेजी है। कई जगहों पर फसल बर्बाद होने से दाम बढ़े हैं। अगले कुछ दिन में दाम काबू में आने की उम्मीद है।

Advertisements