कानपुर में Union Bank में लॉकर काटकर हुई लूट का खुलासा, 11 आरोपी हुए गिरफ्तार

यशोदानगर स्थित यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का स्ट्रांग रूम और 32 लॉकर गैस कटर से काटकर बदमाशा करोड़ों का माल पार कर ले गए थे। कानपुर पुलिस ने झारखंड के धनबाद (साहिबगंज) से तीन आरोपियों को ढाई किलो से ज्यादा सोना और नगदी के साथ पकड़ा है, जिन्हें वहां के न्यायालय में पेश करने के बाद ट्रांजिट रिमांड पर शहर लाया जा रहा है। उधर, कानपुर पुलिस ने कन्नौज से भी दो लोगों को उठाया है। इनके पास से भी काफी माल बरामद किया गया है। कानपुर पुलिस ने रविवार को मामले का खुलासा करते हुए बताया कि पकड़े गए अारोपियों के निशानदेही पर कुल 11 आरोपी हुए गिरफ्तार हुए है। अभी दो अारोपियों की तलाश जारी। अारोपियों के पास से लूटे गए करोडों के जेवर अौर नकदी बरामद हुई है।

खुलासे की खास बातें
झारखंड के गिरोह ने वारदात के दिया था अंजाम, गैंग में संजीवनी हॉस्पिटल के संचालक की रही अहम भूमिका
लुटेरो को मरीज बनाकर डॉक्टर ने अस्पताल में किया था भर्ती वही हुआ था माल का बटवारा
पीपीएन मार्केट में बैजनाथ रामकिशोर में इसी गैंग ने की थी करोड़ो की चोरी।
कन्नौज में ग्रामीण बैंक में कर चुके लूट का प्रयास 50 से ज्यादा बैंको में रेकी के बाद कानपुर को बनाया था निशाना
आईजी ने केंद्र सरकार को लिखा बैंको की सुरक्षा को लेकर पत्र, डीजीपी ने ढाई लाख के इनाम की घोषणा की
झारखंड से वारदात में शामिल तीन अारोपी पकड़े गए
यशोदानगर के पशुपतिनगर स्थित यूबीआई में 17 फरवरी की रात बदमाश बगल स्थित खाली प्लांट से होकर खिड़की काट अंदर दाखिल हुए थे। इसके बाद बैंक का स्ट्रांग रूम और 32 लॉकर काट करोड़ों का पाल पर कर ले गए थे। 19 फरवरी सोमवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे दफ्तरी बैंक का चैनल खोलकर अंदर घुसा तो उसे चोरी की जानकारी हुई। मामले के खुलासे के लिए पुलिस की कई टीमें प्रदेश के जिलों के साथ पश्चिम बंगाल, झारखंड और छत्तीसगढ़ सहित उन प्रदेशों में भी डटी थीं, जहां यूबीआई की तरह अन्य बैंकों में लॉकर काटकर वारदातें हुईं थीं। सूत्रों के मुताबिक, शहर पुलिस टीम ने झारखंड के साहिबगंज पुलिस की टीम के साथ राजमहल और उधवा में छापेमारी कर बैंक से चोरी गए माल में दो किलो 600 ग्राम सोने के जेवरात व 60 हजार रुपए नकद बरामद कर लिए हैं। वहीं, राजमहल के जामनगर और उधवा से तीन लोग पकड़े गए हैं। शहर पुलिस तीनों को राजमहल न्यायालय में पेशकर ट्रांजिस्ट रिमांड पर अपने साथ ला रही है।
कन्नौज से शातिर को उठाया, बोरे में बरामद हुआ माल
पशुपतिनगर के यूनियन बैंक के 32 लॉकर काटकर करोड़ों का मामल उड़ाने की घटना में कानपुर पुलिस ने कन्नौज से भी दो लोगों को उठाया है। इनमें एक युवक के पास से बड़ी संख्या में सोना बरामद होने की चर्चा रही। वहीं, एक की बुआ के लड़के को कल्याणपुर आईआईटी के बाहर से दबोचा गया है। पुलिस को वह गैस सिलेंडर भी कन्नौज में मिल गया है, जिसका उपयोग लॉकरों को काटने के लिए किया गया था।

सूत्रों के मुताबिक बैंक के 32 लाकरों से करोड़ों के जेवरात व माल पार करने वाले शातिरों में कन्नौज के ठठिया थानांतर्गत खुमावन पुरवा गांव का शातिर भी शामिल था। गुरुवार देर रात कानपुर पुलिस ने छापामारी कर उसे धर-दबोचा। उसकी निशानदेही पर काफी माल बरामद होने की चर्चा है। बताया जा रहा है कि शातिर ने माल को एक बोरी में कर घूरे में दबाकर रखा था। पुलिस ने गांव में रहने वाले एक अन्य युवक को भी उठाया है, जोकि शातिर का जिगरी दोस्त बताया जा रहा है। जबकि शातिर के बुआ के लड़के को कल्याणपुर आईआईटी गेट के बाहर से दबोचा है। वहीं, पुलिस को वह गैस सिलेंडर भी मिल गया है, जिससे लॉकर को काटा गया था। उसका मालिक भी पकड़ा गया है। हालांकि अभी तक पुलिस के किसी भी अधिकारी ने इसकी अधिकृत पुष्टि नहीं की है।
नकली नोटों के कारोबार से भी जुड़ा रहा शातिर
सूत्रों के मुताबिक कन्नौज से पकड़ा गया शातिर नकली नोटों का बड़ा सौदागर है। वह नकली नोट बनाने के मामले में पहले भी पकड़ा जा चुका है। कल्याणपुर में भी शातिर का मकान है। सूत्रों के मुताबिक रात में करीब एक घंटे तक पुलिस टीमें गांव में रहीं। इससे गांव में दहशत का माहौल था। हालांकि कुछ ग्रामीणों में चर्चा रही कि शातिर को लॉकर से माल लूटने के मामले में पकड़ा गया है। जबकि कुछ में बड़ी डकैती की चर्चा रही। वहीं, ठठिया थाना पुलिस ने शातिर को उठाए जाने की बात तो स्वीकारी। लेकिन वजह बताने से इनकार किया।

शानो-शौकत बढ़ने पर पकड़ा गया
सूत्रों के मुताबिक खुमावन पुरवा गांव के शातिर की शानो-शौकत कुछ दिन से बढ़ी नजर आ रही थी। यह बात विरोधियों को नहीं हजम हो रही थी। शातिर के बड़ा हाथ मारने की चर्चा आम होने लगी। वहीं, कल्याणपुर में रहनेवाले बुआ के लड़के का भी काफी आना-जाना रहा। कुछ दिन से दोनों चचेरे भाइयों और गांव के अन्य युवक के बीच खूब पार्टी का दौर चल रहा था। मुखबिरों के जरिए इसकी इतला आईजी आलोक कुमार की क्राइम ब्रांच टीम तक पहुंची। सुरागकशी के बाद टीम ने दबिश देकर शातिर, उसके साथी और बुआ के लड़के को दबोच लिया।

Advertisements