खाकी-खादी के गठजोड़ की ‘कुंडली’ खोल रही वायरल ऑडियो

देश को हिला देने वाला बिकरू कांड 2 जुलाई की रात हुआ था। जिसमें हुई फायरिंग में आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। दिल दहला देने वाले इस कांड का भले ही पुलिस ने पटाक्षेप कर दिया हो। पुलिस की फाइलों में चार्जशीट भी लग गई, लेकिन इस कांड के बाद शहीद सीओ देवेंद्र मिश्र के गुम हुए मोबाइल से तीन महीने में दो दर्जन से ज्यादा ऑडियो वायरल हुई हैं। ये वायरल ऑडियो खाकी और खादी के गठजोड़ की काली कहानी बयान कर रहे हैं। वायरल ऑडियो ने न सिर्फ पुलिस विभाग के अनुशासन की पोल खोल दी है। वहीं पुलिस के कुछ दलालों की कहानी भी खुलकर सामने आ गई है।इन वायरल ऑडियो से ये भी सामने आ गया है कि कानपुर में पुलिसिंग सेटिंग गेटिंग और तथाकथित आशीर्वाद से हो रही थी। तत्कालीन एसएसपी की कार्यशैली पर भी इन वायरल ऑडियो ने सवालिया निशान लगा दिया है। खास बात ये है कि इन ऑडियो में प्रदेश के पुलिस मुखिया से लेकर तत्कालीन चौबेपुर एसओ का जिक्र किया गया है। एक बात और साफ हुई है कि तत्कालीन चौबेपुर एसओ की पकड़ तत्कालीन एसएसपी से इतनी मजबूत थी कि वे सीनियर ऑफिसर्स की भी नहीं सुनते था।