कानपुर का इतिहास-२

1857 (5 – 25 June (1857))के प्रथम स्वतंत्रता समर में बिठूर के नाना साहब पेशवा के खौफ से देश ही नहीं लंदन तक बैठे गोरे कांप उठे थे। जनता के दबाव में ब्रिटिश हुकूमत को कई बार उनकी नकली गिरफ्तारी तक दिखानी पड़ी। मैगजीन घाट पर खजाना लूट से स्वतंत्रता समर के आगाज ने अंग्रेजों को पग-पग पर मात दी। इसके पीछे नाना साहब की नीति व निर्देशन अहम रहे। देश भर में विद्रोही आवाजों को ब्रिटिश हुकूमत ने भले ही कुछ महीने में दबा दिया हो लेकिन शहर में ये चिंगारी डेढ़ साल तक सुलगती रही। नतीजतन कानपुर देश के पांच प्रमुख केंद्रों में सर्वाधिक चर्चा में रहा।

The Siege of Cawnpore was a key episode in the Indian rebellion of 1857. The besieged Company forces and civilians in Cawnpore (now Kanpur) were unprepared for an extended siege and surrendered to rebel forces under Nana Sahib, in return for a safe passage to Allahabad.However, under ambiguous circumstances, their evacuation from Cawnpore turned into a massacre, and most of them were killed. As an East India Company rescue force from Allahabad approached Cawnpore; in what came to be known as the Bibighar Massacre, 120 British women and children captured by the Sepoy forces were killed and dismembered with meat cleavers, and their remains being thrown down a nearby well in an attempt to hide the evidence. Following the recapture of Cawnpore and the discovery of the massacre, the outraged Company forces engaged in widespread retaliation against the captured rebel soldiers and local civilians. The murders greatly embittered the British rank-and-file against the Sepoy rebels and inspired the war cry “Remember Cawnpore!”.

Outbreak of rebellion at Cawnpore
There were four Indian regiments in Cawnpore: the 1st, 53rd and 56th Native Infantry, and the 2nd Bengal Cavalry. Although the sepoys in Cawnpore had not rebelled, the European families began to drift into the entrenchment as the news of rebellion in the nearby areas reached them. The entrenchment was fortified, and the Indian sepoys were asked to collect their pay one by one, so as to avoid an armed mob.The Indian soldiers considered the fortification, and the artillery guns being primed, a threat. On the night of 2 June 1857, a British officer named Lieutenant Cox fired on his Indian guard while drunk. Cox missed his target, and was thrown into the jail for a night. The very next day, a hastily convened court acquitted him, which led to discontent among the Indian soldiers. There were also rumours that the Indian troops were to be summoned to a parade, where they were to be massacred. All these factors instigated them to rebel against the East India Company rule.

The rebellion began at 1:30 AM on 5 June 1857, with three pistol shots from the rebel soldiers of the 2nd Bengal Cavalry. Elderly Risaldar-Major Bhowani Singh, who chose not to hand over the regimental colours and join the rebel sepoys, was subsequently cut down by his subordinates. The 53rd and 56th Native Infantry, which were apparently the most loyal units in the area, were awoken by the shootings. Some soldiers of the 56th attempted to leave. The European artillery assumed that they were also rebelling, and opened fire on them. The soldiers of the 53rd were also caught in the crossfire.The 1st N.I. rebelled and left in early morning on 6 June 1857. On the same day, the 53rd N.I. also went off, taking with them the regimental treasure and as much ammunition as they could carry. Around 150 sepoys remained loyal to General Wheeler.

After obtaining arms, ammunition and money, the rebel troops started marching towards Delhi to seek further orders from Bahadur Shah II, who had been proclaimed the Badshah-e-Hind (“Emperor of India”). The British officers were relieved that they would not face a long siege.

Nana Sahib’s involvement
Nana Sahib was the adopted heir to Baji Rao II, the ex-peshwa of the Maratha Confederacy. The East India Company had decided that the pension and honours of the lineage would not be passed on to Nana Sahib, as he was not a natural born heir. Nana Sahib had sent his envoy Dewan Azimullah Khan to London, to petition the Queen against the Company’s decision, but failed to evoke a favourable response.

Amid the chaos in Cawnpore in 1857, Nana Sahib entered the British magazine with his contingent. The soldiers of the 53rd Native Infantry, which was guarding the magazine, were not fully aware of the situation in the rest of the city. They assumed that Nana Sahib had come to guard the magazine on behalf of the British, as he had earlier declared his loyalty to the British, and had even sent some volunteers to be at the disposal of General Wheeler. However, once Nana Sahib was inside the magazine, at the urging of the rebels, he announced that he was a participant in the rebellion against the British, and intended to be a vassal of Bahadur Shah II.

After taking possession of the treasury, Nana Sahib advanced up the Grand Trunk Road. His aim was to restore the Maratha confederacy under the Peshwa tradition, and he decided to capture Cawnpore. On his way, Nana Sahib met with rebel soldiers at Kalyanpur. The soldiers were on their way to Delhi, to meet Bahadur Shah II. Nana Sahib wanted them to go back to Cawnpore, and help him in defeating the British. The rebels were reluctant at first, but decided to join Nana Sahib, when he promised to double their pay and reward them with gold, if they were to destroy the British entrenchment.

सड़क का नाम रखा ‘कानपोर स्ट्रीट’

देश से लेकर इंग्लैंड के कोने-कोने तक नाना साहब  (स्वतंत्रता संग्राम में नाना सहेब ने कानपुर में अंग्रेजों के विरुद्ध विद्रोहियों का नेतृत्व किया।) का खौफ इस कदर हावी था कि ब्रिटिश संसद तक नाना को पकड़ने की मांग एक नहीं कई बार गूंजी। लंदन की एक सड़क का नाम ही ‘कानपोर स्ट्रीट’ रख दिया गया। यही नहीं लंदन के थिएटरों में उन्हें गोली से उड़ाने या फांसी देने के नाटकों के मंचन ने खूब दर्शक खींचे। ब्रिटिश सरकार पर जन दबाव इतना ज्यादा पड़ा कि बार-बार नकली लोगों को नाना के रूप में बंदी बनाकर जनाक्रोश शांत करने की कोशिश की गई।


wh01

और मुख्य सैन्य प्रशासक जनरल व्हीलर को करना पड़ा आत्मसमर्पण

इतिहास के जानकार कहते हैं, पहले स्वतंत्रता समर की शुरुआत 4-5 जून 1857 की रात से पुराना कानपुर स्थित मैगजीन घाट में विद्रोहियों द्वारा अंग्रेजों का खजाना लूटने से हुई। अंग्रेज सैनिक आगे आए तो मुंहतोड़ जवाब दिया। इससे डरकर अंग्रेजी सेना का मुख्य सैन्य प्रशासक जनरल व्हीलर करीब 800 अंग्रेज सैनिकों, नागरिकों, पुरुषों, महिलाओं व बच्चों के साथ छावनी स्थित ऑल सोल्स चर्च की बैरक में पहुंचा और किलेबंदी कर दी। इस बैरक के पास मैदान में ही अब कानपुर क्लब स्थित है।

wh010प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में विद्रोहियों ने अंग्रेजों को कुछ यूं पस्त कर दिया कि वह समझौते पर उतर आए। समझौते के तहत शहर में बाकी बचे अंग्रेज सैनिकों को कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) भेजने की तैयारी हुई। कोलकाता जाने के लिए गोरे गंगा तट पर सत्ती चौरा घाट पहुंचे। यहां पहले से ही दस हजार से अधिक लोगों की भीड़ अंग्रेजों का मान मर्दन देखने को मौजूद थी। इस बीच आजादी के दीवाने हो चुके विद्रोहियों ने यहां गोलीबारी कर दी। सत्ती चौरा घाट पर लाशों के ढेर लग गए।यह बात विद्रोहियों को पता चली तो 9 जून को बैरक के बाहर डेरा डालकर घेर लिया। इससे अंग्रेज सैनिक व उनका मुखिया अंदर बंद होकर रह गया। कई बार आपस में गोलीबारी भी हुई। थोड़े दिन में ही भूख प्यास से तड़पते अंग्रेजों का धैर्य टूटा और 25 जून को व्हीलर को सफेद झंडा फहरा आत्मसर्पण को मजबूर होना पड़ा।सेना पहुंचने से पहले कर दिया कत्ल बैरक से बचे सैनिकों, महिलाओं, बच्चों को नाना साहब पेशवा के निर्देश पर सवादा कोठी में ठहराया गया। यहीं पर वह खुद भी ठहरे थे।

A memorial erected (circa 1860) by the British at the Bibi Ghar well after the Mutiny was crushed. It was the work of Carlo Marochetti.

A memorial erected (circa 1860) by the British at the Bibi Ghar well after the Mutiny was crushed. It was the work of Carlo Marochetti.

पुराना कुआं अब जीर्ण-शीर्ण अवस्था में है। पर्यटन विभाग ने संरक्षित स्मारक का बोर्ड जरूर लगा दिया है लेकिन रखरखाव के नाम पर सिर्फ खानापूरी हो रही है।

सेना पहुंचने से पहले कर दिया कत्ल

बैरक से बचे सैनिकों, महिलाओं, बच्चों को नाना साहब पेशवा के निर्देश पर सवादा कोठी में ठहराया गया। यहीं पर वह खुद भी ठहरे थे। थोड़े दिन बाद वर्तमान नानाराव पार्क स्थित बीबीघर बीबीघर (two rooms 20 feetx10)में इन्हें पहुंचा दिया गया और नाना साहब सुरक्षित स्थान की तरफ निकल गए।इस बीच ब्रिटिश हुकूमत को खबर लगी तो कोठी को उड़ा दिया गया। यहां स्मारक बनाया गया लेकिन उपेक्षा की वजह से स्मृतियां धूमिल पड़ चुकी हैं।

अंग्रेजों के सुरक्षित कलकत्ता निकलने के लिए सत्ती चौरा घाट पर 27 जून 1857 को 40 नावें मंगाई गई थी। अंग्रेज रवानगी के लिए पहुंचे तो वंदेमातरम के उद्घोष शुरू हो गए। अचानक भीड़ के बीच से कई राउंड फाय¨रग हुई तो भगदड़ मच गई। गिरते-पड़ते अंग्रेजों को कुचलने के लिए भीड़ भी हमलावर हो गई। उन्मादी भीड़ के आक्रमण से 450 से ज्यादा बंदी अंग्रेज मारे गए।उधर, अंग्रेजी सेना के कानपुर की तरफ बढ़ने की खबर पर 15-16 जुलाई १९५८ की रात बंदियों की रखवाली कर रही खानम नाम की महिला ने दो जल्लाद बुलवाए और सभी की हत्या करवा शव पास के कुएं में फिंकवा दिए।

 

Bibighar

बी बी घर कांड से थर्रा उठा शहर: इतिहासकार बताते हैं, अब के नानाराव पार्क के मुहाने पर ही कुआं के पास बीबी घर था। यहां का हत्याकांड विश्व भर में चर्चित हुआ था। प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में विद्रोहियों के हाथों लगातार मात खा रहे अंग्रेजों ने बीबीघर को ढहा दिया था। यहां तमाम लोग मारे गए। पुराना कुआं अब जीर्ण-शीर्ण अवस्था में है। पर्यटन विभाग ने संरक्षित स्मारक का बोर्ड जरूर लगा दिया है लेकिन रखरखाव के नाम पर सिर्फ खानापूरी हो रही है।

The surviving women and children were imprisoned in a former house of a British officer’s mistress known as the ‘Bibighar’.  Here, in two rooms 20 feet by 10, without furniture or straw for bedding, the captives awaited their fate. Responsible for their captivity was member of the Nana’s household, Hosainee Khanum – a former prostitute’s maid nicknamed ‘the Begum’.  On 15 July they were all murdered. Their bodies were dumped in a nearby well. The sepoys were were ordered to proceed to the the Bibighar and shoot the women and children. They refused – the women of the Nana’s household had also protested at the order, refusing food and threatening to throw themselves off the rooftops. The guard, threatened with being blown away from guns, marched down to the house, and pointing their muskets through windows, fired into the ceiling. It was then the Begum took a hand. Summoning a member of the Nana’s Maratha guard – reputedly her lover – two Muslim buthchers and two other townsmen, she brought them to the house to do what the sepoys had refused to do. What followed after they enterd the house, was witnessed by an Eurasian drummer named Fitchett, of the 6th Native Infantry,who was interviewed by British officials some months later.


अब घाट की हालत बेहद खराबwh011
क्रांति के एक बड़े पहलू को समेटे सत्ती चौरा घाट की हालत अब बेहद खराब है। यहां से गंगा काफी दूर चली गई हैं तो घाट की सीढि़यों पर गंदगी के अंबार लगे हैं। बगल में सत्ती चौरा गांव से एक नहीं चार से पांच नालों के जरिए गंदा पानी सीधे गंगा में जा रहा है। छावनी परिषद को न तो धरोहर सहेजने की चिंता है और न ही शासन प्रशासन को।


imagesस्वतंत्रता सेनानियों की लगती थी संसद

नानाराव पार्क के ठीक सामने उस वक्त का मशहूर स्थान था चा‌र्ल्स बिल्डिंग। इसी बिल्डिंग में था नूर मोहम्मद का होटल। यह होटल कम स्वतंत्रता सेनानियों की संसद ज्यादा था। साथ ही नाना पेशवा, अजीमुल्ला खां, तात्याटोपे और अन्य विद्रोही नेताओं की गुप्त बैठकों के साथ प्रवास का जरिया था। इसी सड़क पर थोड़ा बढ़कर स्टेशन थिएटर था, जिसका कुछ हिस्सा विद्रोहियों ने ही ढहा दिया था। बाद में यहां तारघर बनाया गया। थोड़े अर्से बाद भारत सरकार ने इस विरासत को गिराकर बीएसएनएल की बहुमंजिली इमारत बना दी।


d3126

133- भारतीयों की हत्या का गवाह बूढ़ा बरगद
अंग्रेजियत दर्शाने के लिए एक देवदूत की प्रतिमा लगाकर नक्काशीदार रेलिंग के साथ मेमोरियल वेल पार्क स्थापित कर दिया। जिसका नाम अब नानाराव पार्क है। यहां विद्रोहियों का दमन करने को क्रूर अंग्रेज हैवानियत पर उतर आए थे। बूढ़े बरगद के पेड़ की शाखाओं पर एक साथ 133 बेगुनाह भारतीयों को फांसी के फंदे पर लटकाकर खौफ पैदा करने का कुत्सित प्रयास किया। हालांकि बाद में गुस्साए विद्रोहियों ने यहां हमला बोलकर काफी कुछ तहस-नहस कर दिया। स्मारक को संरक्षित करने की नाकाम कोशिशें हुई।

=========================================================

(अब बीबीघर के स्थान पर स्वीमिंग पूल, लाशों के कुएं पर स्केटिंग ¨रग व बूढ़े बरगद के स्थान पर सिर्फ इबारत लिखा पत्थर लगा है।)

======================================================= 

बिठूर के इर्द-गिर्द हमलों की बाढ़
चर्चित बीबीघर कांड के बाद अंग्रेज सेनाओं ने जब 18 जुलाई को 1857 को कानपुर पर फिर से कब्जा कर लिया तो नाना साहब बिठूर की तरफ पलायन कर गए। इससे अंग्रेजों की निगाह भी बिठूर व इसके इर्द-गिर्द टिक गई। अप्रैल 1859 तक बिठूर को अनेक हमले झेलने पड़े। इससे यहां पर पेशवा महल, तात्या टोपे की कोठी समेत अन्य महल तबाह हो गए। इन्हें ठीक ढंग से संरक्षित के प्रयास भी नहीं किए गए।
जूझते रहे पर नहीं छोड़ा ठिकाना
अंग्रेजी सेनाएं विद्रोहियों से मात खाने के बावजूद जूझती रहीं और अंदरुनी ठिकानों पर जमी रहीं। बाहरी मदद मिलने के बाद फिर से काबिज हुई। कुछ इसी अंदाज में देशभक्ति के दीवानों ने भी शहर में क्रांति की अलख जगाए रखी और खुद की कुर्बानी देकर आजादी में सांस लेने का वक्त ले आए।
धीरे-धीरे खो रहे शहादत के अंश
वरिष्ठ इतिहासकार प्रोफेसर एसपी सिंह कहते हैं कि 1857 क्रांति के पुरोधा रहे शहर में अब धीरे-धीरे शहादत के अंश खोते जा रहे हैं। नई पीढ़ी के लोग काफी कुछ चीजें भूल चुके हैं। शहीद स्थलों का रखरखाव न हुआ और ऐसे ही हालात बने रहे तो भविष्य में बाकी बची स्मृतियां भी खत्म हो जाएंगी। इन्हें बचानेके लिए नई क्रांति की जरूरत है, जिससे आने वाली सदियों में क्रांति दूतों की कुर्बानी जाया न हो सके।

अंग्रेजी दास्तां की जकड़न तोड़ने को प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की चिंगारी कानपुर के बाद आसपास के जिलों में फैली। ग्रामीणांचल व देहात क्षेत्रों में भी विद्रोह की ज्वाला में हर आम-ओ-खास खूब तपा। अंग्रेजों ने फारस के युद्ध से लौटे जनरल हैवलाक को जिम्मा सौंपा तो चौतरफा क्रांतिकारियों की ताकत ने घेरेबंदी की। फतेहपुर से बुंदेलखंड तक पग-पग पर नाकों चने चबाने पड़े।
पांडु नदी पर रोकने को मोर्चा
फतेहपुर में तगड़े संघर्ष के बाद जब हैवलाक सेनाओं के साथ आगे बढ़ा तो नाना साहब ने पांडु नदी पर उसको रोकने की योजना बनाई। सेनानियों की इस हार का तगड़ा धक्का भी लगा लेकिन हिम्मत नहीं हारी गई। नाना ने अपने भाई बाला साहब के नेतृत्व में सेना भेज दी। 15 जुलाई को औंग में ज्वाला प्रसाद के नेतृत्व में अंग्रेज सेना को परास्त कर मीनाड़ नदी किनारे पड़ाव डाला जा चुका था। बाला साहब की सेनाओं ने अंग्रेजों को घेरकर पाण्डुनदी का पुल उड़ाने का असफल प्रयास किया। जनरल हैवलाक की सेना ने विद्रोही सिपाहियों को पीछे हटने पर बाध्य कर दिया। औंग व पांडु नदी की लड़ाई जीतने से अंग्रेजों के हौसले बढ़े लेकिन विद्रोही सिपाही भी पीछे नहीं हटे। हालांकि इसमें बाला साहब बुरी तरह घायल हुए।
महाराजपुर से अहिरवां तक खूब संघर्ष
औंग तथा पांडुनदी के वर्चस्व की लड़ाई कानपुर की सरजमीं पर पहुंच गई। पीछे हटते हुए विद्रोही सेनानी अहिरवां के निकट जीटी रोड पर आ जमे। अंग्रेजी सेना ने महाराजपुर में मोर्चा लगा दिया। नाना साहब स्वयं 5-6 हजार सिपाहियों के साथ आ डटे, किन्तु जनरल हैवलाक ने चतुराई से अपने सैनिक पीछे हटाकर सहायक 300 सिखों की टुकड़ी आगे कर दी। हैवलाक और हैमिल्टन की सेनाओं तथा ‘मद्रास फ्यूसिलियर्स’ के सैनिकों ने नाना साहब को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया। नाना साहब ने महाराजपुर से छावनी आने वाली सड़क पर नया मोर्चा साधा। कानपुर शहर में फैले भारतीय सैनिक उनकी सहायता को पहुँचने लगे। 16 जुलाई को नाना साहब को फिर निराशा हाथ लगी।
घाटमपुर, बिल्हौर व भोगनीपुर तक आग
घाटमपुर, बिल्हौर व भोगनीपुर तक पहुंची आग दबाने को अंग्रेजों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। बिठूर, शिवराजपुर तथा सचेंडी में भी खूब संघर्ष हुआ। यही हाल नगर की निकटवर्ती तहसीलों रसूलाबाद, घाटमपुर और नरवल का था जहां से मालगुजारी वसूली की सीमित व्यवस्था कायम हो चुकी थी परंतु अकबरपुर, सिकंदरा, शिवराजपुर, सचेंडी, डेरापुर तथा रसूलाबाद में प्रतिरोध जारी था यद्यपि सचेंडी के राजा दुर्गाप्रसाद अंग्रेजों के पास संधि की अर्जी लेकर पहुंच चुके थे।
तात्या टोपे के नेतृत्व में घिरे अंग्रेज
अंग्रेज आसपास संघर्ष में काफी कुछ काबिज हुए लेकिन इसी बीच कानपुर पुन: तात्याटोपे के नेतृत्व में एक और अविस्मरणीय संघर्ष का गवाह बनने जा रहा था। अवध के पीछे हटे सिपाहियों ने बख्त सिंह के नेतृत्व में सिपाहियों के एक दल ने शिवराजपुर पर धावा बोल दिया। 14 नवम्बर तक ब्रिगेडियर विल्सन, ग्रेटहेड, पील, पावेल तथा का‌र्थ्यू के दस्ते कानपुर में थे। 24 नवम्बर को हैवलाक की मृत्यु हो गई। इसी बीच नाना साहब जंग को नए सिरे से पुर्नस्थापित करने की जुगत भिड़ाई। उन्नाव के फत्तेपुर-चौरासी से निकलकर वे मुरार (ग्वालियर) पहुंचे जहां रामचंद्र पांडुरंग राव उर्फ तात्या टोपे के साथ अंग्रेजों से कानपुर को पुन: मुक्त कराने की योजना बननी शुरू हुई। इससे कानपुर के संघर्ष का विस्तार रुहेलखंड, बुन्देलखंड, इटावा, कन्नौज, मैनपुरी, शाहजहांपुर, ग्वालियर तक अन्य के साथ तात्या टोपे की सरपरस्ती में शुरू हो चुका था।

अंग्रेजों को दी कड़ी टक्कर
वरिष्ठ इतिहासकार प्रो. एसपी सिंह कहते हैं, विद्रोहियों ने अंग्रेजी सेना को प्रत्येक मोर्चे पर कड़ी टक्कर दी। अंग्रेजों की भारी भरकम सेनाओं के विद्रोह दबाने में एक दो माह नहीं पूरे डेढ़ साल का वक्त लग गया। इससे पता चलता है कि विद्रोही सैनिक पूरी मजबूती के साथ उतरे थे। इनकी स्मृतियों को संजोने के लिए शासन प्रशासन को नींद तोड़ने की जरूरत है।

”1857 के समर में कानपुर के योगदान पर दो दर्जन से ज्यादा पुस्तकें लिखी जा चुकी हैं। अफसोस कि पहले अंग्रेजों ने कहर बरपाया और अब बेपरवाही से बिखरी स्मृतियां समाप्त होने को हैं। बिठूर में पर्यटन विभाग के पेशवा स्मारक को छोड़ दें तो बाकी उस समय की इमारतों व धरोहरों को सहेजने के प्रयास नहीं हुए। इस विद्रोह में मारे गए अंग्रेज अधिकारियों की कब्रगाह कचहरी स्थित गोरा कब्रिस्तान भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित श्रेणी का स्मारक है। पर्यटन विभाग की लापरवाही के चलते पेशवा महल का अस्तित्व खत्म होने के कगार पर है। कुछ अवशेष इसकी भव्यता का इशारा करते हैं।”

वरिष्ठ इतिहासकार प्रोफेसर एसपी सिंह कहते हैं कि 1857 क्रांति के पुरोधा रहे शहर में अब धीरे-धीरे शहादत के अंश खोते जा रहे हैं। नई पीढ़ी के लोग काफी कुछ चीजें भूल चुके हैं। शहीद स्थलों का रखरखाव न हुआ और ऐसे ही हालात बने रहे तो भविष्य में बाकी बची स्मृतियां भी खत्म हो जाएंगी। इन्हें बचानेके लिए नई क्रांति की जरूरत है, जिससे आने वाली सदियों में क्रांति दूतों की कुर्बानी जाया न हो सके।

इन अवशेषों को संरक्षित करने की तरफ कदम बढ़ाने की जरूरत है। धरोहरों को बंद करने के स्थान पर जीर्णोद्धार कर विरासत को लोगों के लिए खोलना चाहिए। यहां फव्वारे व फुलवारी लगाकर आकर्षण पैदा किया जा सकता है।” -प्रोफेसर एसपी सिंह, वरिष्ठ इतिहासकार

सधंयवाद:शिवा अवस्थी, कानपुर:

>>>>> कानपुर का इतिहास
<<<<< अपना कानपुर नगर

See also…………

  1. Siege of Cawnpore
  2. Second Battle of Cawnpore
  3. Indian rebellion of 1857
Advertisements