कानपुर :पानी लेकर सड़क पर निकले धूल दबाने

कानपुर : प्रदूषण बढ़ाने में मददगार हो रही धूल को दबाने के लिए शुक्रवार को कई विभाग पानी के टैंकर लेकर सड़क पर निकले। दरअसल खोदकर छोड़ी गई सड़कों और मलबा राहगीरों और वाहन चालकों के लिए मुसीबत बन गया है। तेज वाहनों के चलने से उड़ती धूल से लोगों का सांस लेना मुश्किल है।…

स्वच्छता में कानपुर 6वें पायदान पर

हिन्दुस्तान और शहरवासियों की मुहिम अब रंग लाने लगी है। ‘मां-कसम हिन्दुस्तान स्वच्छ रखेंगे हम’ की शपथ लेने वाले लोग कानपुर को स्वच्छ शहर बनाने के लिए आगे आ गए हैं। सक्रियता इस कदर बढ़ी है कि ऑनलाइन रैंकिंग में कानपुर देश के 4041 शहरों में छठवें नंबर पर जा पहुंचा है। नगर निगम ने…

कार्डियोलॉजी में बनेगा 60 बेड का नया वार्ड

हृदय दिवस पर शासन ने हृदय रोग संस्थान को तोहफा दिया है। रोज-रोज बढ़ रही हृदय रोगियों की संख्या को देखते हुए शासन ने संस्थान में 60 बेड का अलग वार्ड बनाने के प्रोजेक्ट को हरी झण्डी दे दी है। संक्रामक रोग अस्पताल में नए ब्लॉक में ओपीडी शुरू होने के बाद संस्थान में अलग…

नई सरकार-नया रंग,भगवा में रंगा उर्सला

कानपुर : सूबे में सरकार बदलते ही उर्सला अस्पताल में सियासी रंग चढ़ने लगा है। वहां के ग्लो साइन बोर्ड, ग्रिल व सूचना पट को भगवा रंग में रंग दिया गया है। अस्पताल के मुख्य और इमरजेंसी गेट पर लगे बोर्ड भी बदल दिए गए हैं। अब परिसर की रंगाई पुताई कराने पर विचार चल…

उर्सला में मरीजों की जान से खिलवाड़

कानपुर (उर्सला)। जिला अस्पताल उर्सला में आने वाले गंभीर मरीजों की जान बच जाएगी इसकी कोई गारंटी नही है। दरअसल इमरजेंसी में स्थित वेंटीलेटर यूनिट में 12 में 6 वेंटीलेटर लंबे समय से खराब पड़े हैं। वहीं इसमें उपयोगी 15 मानीटर भी ठप हो गये हैं। केवल तीन मानीटर से छह वेंटीलेटर किसी तरह चलाये…

डफरिन अस्पताल में वसूली पर हंगामा

डफरिन अस्पताल में चल रही डॉक्टरों की मनमानी सोमवार को उजागर हो गई। तीमारदारों ने जब उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य सीमा यादव के सामने दर्द बयां किया तो वो हैरत में पड़ गईं। औचक निरीक्षण के दौरान ओपीडी गईं तो महिला डॉक्टर नदारद थीं। अल्ट्रासाउंड के नाम पर गर्भवती महिलाओं को टरकाया…

हैलट में इलाज के लिए आने वाले तीमारदार अब आश्रय गृह में ठहर सकेंगे

– हैलट में इलाज के लिए आने वाले तीमारदार अब आश्रय गृह में ठहर सकेंगे – महिलाओं व पुरुषों के लिए अलग अलग डॉरमेट्री व रूम की सुविधा KANPUR: हैलट में अपने मरीजों का इलाज कराने आए तीमारदारों को अब गली में या बेड के किनारे फर्श पर नहीं सोना पड़ेगा। हैलट के वार्डो के…

डीएम ने संभाली हैलट की कमान सुबह से रात तक अस्पताल में डाले रहे डेरा

हैलट अस्पताल में अपनी निगरानी में घायल को इलाज के लिए भिजवाते जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा।हैलट-उर्सला में रिजर्व कराये 100 बेड घटनास्थल पर भेजीं 36 एम्बुलेंस हैलट में पीड़ितों की मदद में जुटे रहे सिविल डिफेंस के 40-50 सदस्य

ईएसआई के मरीजों को सुपर स्पेशियलिटी इलाज

ईएसआई मेडिकल स्कीम में कवर होने वाले लाखों कर्मचारियों और उनके परिवारीजनों को अब सुपर स्पेशियलिटी इलाज के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। दरअसल चिकित्सा विज्ञान संस्थान बीएचयू, जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अलीगढ़ और एसजीपीजीआई ने ईएसआई मरीजों को सुपर स्पेशियलिटी इलाज देने पर सहमति दे दी है।

हैलट के बाहर से हटे ठेले

शुक्रवार को जोनल प्रभारी की अगुवाई में कर अधीक्षक अरुण द्विवेदी, कर निरीक्षक कमल सिंह व कृष्णमुरारी ने हैलट के बाहर ठेले हटवाकर जच्चा-बच्चा अस्पताल के पास जीटी रोड पर खाली पड़ी जमीन पर खड़े करा दिए। जोनल प्रभारी ने बताया डेढ़ दर्जन ठेले वालों को फेरी नीति के तहत यहां खड़ा कराया जाएगा। इसकी जानकारी पुलिस व ट्रैफिक विभाग को दी जा रही है। अब मोतीझील से लेकर हैलट अस्पताल तक एक भी ठेला नहीं खड़ा होगा। अभियान लगातार चलाया जाएगा। जो ठेला खड़ा मिलेगा उसका सामान जब्त होगा।

डीएम ने उर्सला का किया निरीक्षण, मरीजों के हाथ में बाहर की दवाएं देख बिफरीं

12 बजे तक लिए जाएंगे ब्लड सैंपलः
नदीम ने डीएम से शिकायत की कि पैथोलॉजी में सुबह 11:30 बजे के बाद ब्लड सैंपल नहीं लिए जाते हैं। डीएम ने कहा कि दोपहर 12 बजे तक सैंपल लिए जाएंगे।
डीएम गईं तो डॉक्टर भी चल दिएः
डीएम के जाने के बाद डॉ. आरके कटियार भी चले गए। पूछने पर उन्होंने कोई जवाब भी नहीं दिया। उनके कमरे के सामने लाइन लगाकर खड़े लोग काफी देर तक परेशान रहे। अंदर मौजूद कर्मचारी ने बताया कि डॉक्टर साहब अभी आएंगे, लेकिन काफी देर तक वह नहीं लौटे।

कैंसर अस्पताल को हुआ कैंसर

Cancer Hospital’ has cancer
जेके कैंसर संस्थान में वर्तमान में 15 हजार से ज्यादा कैंसर मरीज पंजीकृत हैं। इनमें सैकड़ों को रेडियोथेरेपी की लगातार जरूरत पड़ती है। लिनियर एसीलरेटर मशीन खराब हो जाने के कारण मात्र एक कोबाल्ट मशीन के भरोसे मरीजों की रेडियोथेरेपी की जा रही है। इस कारण मरीजों की वेटिंग बढ़ती जा रही है। वर्तमान में तकरीबन एक महीने की वेटिंग चल रही है।

कानपुर: गर्मी में कांशीराम चिकित्सालय एवं ट्रामा सेंटर में पंखे एवं वाटर कूलर खराब हैं

कांशीराम चिकित्सालय के वार्ड में खराब पड़े पंखे। चिकित्सालय में गर्मी से बेहाल मरीजों को राहत नहीं