रेल हादसों का गढ़ बनता जा रहा यूपी का मेनचेस्टर

कानपुर देहात। इसे भारतीय रेल की अनदेखी या लापरवाही कहें या इत्तेफाक। रेल से जुड़ी घटनाओं में कमी होती नहीं दिख रही। प्रदेश के मेंचेस्टर कहा जाने वाला कानपुर शहर रेल हादसों का गढ़ बनता जा रहा है। आए दिन यहां छोटे से लेकर बड़े ट्रेन ट्रेन हादसे हो रहे हैं। कभी यात्रियों से भरी…

रेल हादसे से पचास करोड़ की चपत!

कानपुर : सुरक्षित रेल यात्र के दावे करने वाले रेलवे की लापरवाही न केवल यात्रियों की जान-माल पर भारी पड़ती है बल्कि रेल हादसे से रेलवे को खुद करोड़ों की चपत सहनी पड़ती है। रेलवे संपत्ति की क्षति से लेकर अनुग्रह राशि, अधिकारियों के दौरे, जांच और मैन पावर के बेजा इस्तेमाल से भारी आर्थिक…

कपलिंग टूटी, दो हिस्सों में बंटी मालगाड़ी

बिल्हौर : अरौल स्टेशन के पास कपलिंग टूटने से मालगाड़ी दो हिस्सों में बंट गई। गार्ड की सूचना पर चालक ने मालगाड़ी रोकी। कपलिंग ठीक होने के बाद मालगाड़ी रवाना हुई।1सोमवार दोपहर अरौल स्टेशन पर क्रास होने के कारण फरुखाबाद की ओर जा रही मालगाड़ी को रोक दिया गया।

उद्योग कर्मी एक्सप्रेस की दो बोगियों के पहियों में खड़खड़ाहट से यात्री घबरा गए

इंदौर राजेंद्रनगर पटना एक्सप्रेस हादसे की दहशत अभी कम भी नहीं हो पाई है। शुक्रवार को कानपुर से झांसी की ओर जा रही उद्योग कर्मी एक्सप्रेस की दो बोगियों के पहियों में खड़खड़ाहट से यात्री घबरा गए। जानकारी पर दो बार में ट्रेन को करीब तीन घंटे तक ट्रेन को रोका गया। खराबी ठीक होने के बाद ट्रेन आगे के लिए रवाना हो सकी

तो क्या फिट नहीं है झांसी-कानपुर रेलवे ट्रैक?

कानपुर । झांसी- कानपुर रूट की खराब स्थिति की शिकायत कुछ ट्रेन चालकों ने भी की थी। बावजूद इसके अभियंतण्रविभाग लापरवाह बना रहा। पुखरायां व मलासा स्टेशन के बीच 20 नवम्बर को हुए ट्रेन हादसे के बाद से झांसी-कानपुर रेल मार्ग की दशा को लेकर भी सवाल उठने लगे हैं।

कानपुर रेल हादसे की ‘दर्द-ए-कहानियां’, जिन्हें पढ़कर रो पड़ेंगे आप!

टिफिन में रखी रोटियां सूख चुकी हैं, कोल्ड ड्रिंक की आधी खाली बोतलें अब आवारा जानवरों की प्यास बुझा रही हैं।
रेल हादसे ने मजहबी दीवारें तोड़ दी हैं। यूं तो शहर ने इंसानियत को जिंदा रखने की बहुत सी मिसालें पहले भी पेश की हैं। खुद क्रांतिकारी गणेश शंकर विद्यार्थी ने अपने खून से इस धरा को बचाने के लिए प्राणों की आहूति दी थी।

प्रभु की खूनी ट्रेन से जमकर लड़ी मर्दानी, परिवार के आठ सदस्यों की बचाई जान

Injured woman saves 8 family members in Indore Patna express accident
महिला ने बताया कि वह अपने परिवार व गांव के 13 सदस्यों के साथ महाकालेश्वर के दर्शन करने के लिए गए थे, लेकिन ट्रेन हादसे ने उनकी सारी खुशियां पलभर में छीन लीं|

कानपुर : निष्पक्ष जांच होगी (आरडीएसओ) में , दोषी रेलकर्मी होंगे गिरफ्तार

पुखरायां में इंदौर-राजेंद्र नगर (पटना) एक्सप्रेस हादसे के बाद टूटी पटरी, कपलिंग व ट्रैक से जुड़ा अन्य सामान सील कर लिया गया है। उसकी जांच लखनऊ स्थित रिसर्च डिजाइन एंड स्टैंडर्ड आर्गनाइजेशन (आरडीएसओ) में कराई जाएगी। इससे ट्रैक की उम्र या कमजोरी का पता लगाया जाएगा। जांच कर रहे मुख्य रेल संरक्षा आयुक्त पीके आचार्या को अभी तक ट्रेन के चालक दल की मेडिकल रिपोर्ट नहीं मिली है।

इंदौर-पटना एक्सप्रेस हादसे में कार्रवाई शुरू

कानपुर. इंदौर-पटना एक्सप्रेस हादसे में आरोपि‍यों के खि‍लाफ जांच और कार्रवाई शुरू हो गई है। मंगलवार सुबह जीआरपी ने अज्ञात रेलवे अफसरों और कर्मचारि‍यों पर केस दर्ज कराया है। इसमें एक्‍सीडेंट का कारण रेलवे अफसरों की लापरवाही बताई गई है। कानपुर देहात के भीमसेन थाने के इंचार्ज अर्जुन सिंह ने आईपीसी के सेक्‍शन 337, 338,…