मेट्रो नहीं तो फ्लाईओवर ही बनवा दीजिए

कानपुर। शहर में मेट्रो चलने का सपना अटका तो एक बार फिर शहरियों का दर्द छलक आया। लोगों का कहना है कि भले ही अभी मेट्रो न चले, कम से कम रेलवे क्रॉसिंगों के ऊपर यदि फ्लाईओवर बन जाए तो काफी हद तक राहत मिल जाए। लोगों को सबसे ज्यादा दिक्कत फरुखाबाद रेललाइन की क्रॉसिंगों…

आईआईटी से नौबस्ता तक मेट्रो के 22 स्टेशन

कानपुर में मेट्रो ट्रैक के दोनों तरफ होगी सात-सात मीटर चौड़ी रोड

कानपुर : मेट्रो ट्रैक के दोनों तरफ सात-सात मीटर की चौड़ी रोड होगी। डिवाइडर के बीच से अगल-बगल तक तीन मीटर का हिस्सा मेट्रो का ट्रैक बनाने के लिए घेरा जाएगा। जहां सात मीटर चौड़ी रोड नहीं मिलेगी वहां कानपुर मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ही बाकी बची जगह पर चौड़ीकरण कराएगा। आईआईटी से मोतीझील तक एलीवेटेड…

बारिश खत्म होते ही खड़े होंगे मेट्रो के पिलर

मेट्रो के लिए केपीएमआरसी बनते ही काम शुरू हो जाएगा। बीचो-बीच दो तरफ डिवाइडर बनाकर बीच में मेट्रो का काम शुरू होगा। डिवाइडर का काम पीडब्ल्यूडी को करना होगा। कम्पनी के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हो गई है। -के विजेन्द्र पाण्डियन, उपाध्यक्ष केडीए

सिस्टम और राजनीति के रेड सिग्नल पर खड़ी कानपुर मेट्रो को कब ग्रीन सिग्नल मिलेगा

वैसे तो कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के लिए निर्माण शुरू तो हो गया है मगर यह आशंका गहराने लगी है कि आगामी विधान सभा चुनाव के दंगल में यह प्रोजेक्ट न पिस जाए। अब कभी भी आदर्श आचार संहिता लागू हो सकती है। ऐसे में अगले छह माह तक इस मेट्रो के लिए कोई धनराशि शायद ही स्वीकृत हो पाए।