स्मार्ट सिटी बोर्ड की पहली बैठक

वीआईपी रोड पर बनेगा अपरगामी पुल,महानगर का जलापूर्ति और सीवेज सिस्टम सुधारने पर भी जोर ,मंडलायुक्त ने कहा विकास कार्य ऐसे हों कि जनता सराहना करेमेट्रो रेल परियोजना के निर्माण कार्य में भी तेजी लाने के निर्देश

Advertisements

संकट में जीवनदायिनी के प्राण

कानपुर : गंगाजल में कीड़े आने से जलकल का खर्च बढ़ गया है। पानी ट्रीट करने और कीड़े मारने को क्लोरीन की मात्र दोगुना बढ़ा दी गई है।दो दिन से गंगा के पानी में लाल रंग कीड़े मिल रहे हैं। तेजी से गिरते जलस्तर के चलते पहले ही कालापन बढ़ा है। इसको ट्रीट करने में जलकल को चार से पांच टन की जगह अब दस टन फिटकरी लगानी पड़ रही है। साथ ही कच्चा पानी खींचने के लिए चार ड्रेजिंग मशीन लगाई गई है।

नाली-सड़क सफाई परीक्षा की घड़ी आई

कानपुर शहर के 1800 बेरोजगारों के हाथों में आज झाड़ू और फावड़ा होगा। कोई नाली साफ करेगा तो कोई सड़कों पर झाड़ू लगाकर यह बताएगा कि उसे इस काम को करने में कोई दिक्कत नहीं। सफाई व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए 3275 संविदा सफाई कर्मियों की भर्ती की प्रक्रिया सोमवार से शुरू हो जाएगी। सबसे…

मोतीझील गायब, बचा सिर्फ जलाशय

  कानपुर : शहर की शान मोतीझील कभी लोगों को आकर्षित करती थी, आज उसी मोतीझील में न तो मोती बचा है और न झील। जब कभी शहर की बात आती थी तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी मोतीझील को याद किए बगैर नहीं रह पाते थे। आज एक गड्ढानुमा जलाशय है जिसमें भरे कीचड़…

विकास कार्यो में कानपुर को मिला 9वां स्थान

अभी तक 16 वें स्थान पर रहा कानपुर अब विकास कार्यो में 9वें स्थान पर पहुंच गया है। मार्च में कानपुर 41 वें स्थान रहा लेकिन अब उसने रैंकिंग में काफी सुधार कर लिया है। सरकार के विकास एजेण्डा को पूरा करने में कानपुर हर हफ्ते बढ़त हासिल कर रहा है। कानपुर को 199 अंक मिले हैं।

जलनिगम की मनमानी, जनता प्यासी|नाले में बह रहा पानी बूंद-बूंद को तरस रहे

नौबस्ता के केशवनगर, बर्रा सचान चौराहा, दबौली, रतनलाल नगर, जनता नगर, निराला नगर, बारादेवी, जूही, किदवई नगर क्षेत्रों में कई जगह महीनों से लीकेज है। कई जगह लीकेज के पास लोग बाल्टी से पानी भरते हैं। उधर, शास्त्री चौक से बर्रा सचान चौराहे वाली सड़क, दीप टाकीज रोड, किदवईनगर में संजय वन मार्ग पर छह माह पहले खोदाई कर लाइन डाली गई थी, जो अधूरा पड़ा है। आधी सड़क तक पड़े पाइप वाहन सवारों के लिए हादसों का सबब बनते रहते हैं।पानी के लिए घंटों इंतजार करते लोग।