कानपुर में फिर शुरू होगा गंगा महोत्सव

मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि गंगा किनारे बसे सभी शहरों में इस बार से गंगा महोत्सव आयोजित किए जाएंगे। महोत्सव के जरिए हम लोगों को गंगा सफाई का संदेश देंगे। उन्होंने कहा कि इसका सुझाव बिठूर के विधायक अभिजीत सांगा ने दिया था। Advertisements

हाईवे से हटे तो स्कूलों के पास खुले ठेके

कानपुर दक्षिण : गुजरात और बिहार की तर्ज पर अब शहर की भी महिलाएं शराब बंदी को लेकर आंदोलित होती नजर आ रही हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हाईवे से हटकर स्कूलों के पास और बस्ती में खुलने वाले शराब ठेकों का विरोध इसकी नजीर है। रविवार को इसी कड़ी में बिधनू, बिठूर,…

विश्लेषण : बिठूर विधानसभा सीट

सांगा संग भाजपा में गए कांग्रेस के वोटर कानपुर : 2012 के चुनाव में बिठूर विधानसभा सीट पर भाजपा की जमानत जब्त हो गई थी। इस चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस से आए अभिजीत सिंह सांगा को मैदान में उतारा और पिछले चुनाव में भाजपा की जमानत जब्त कराने वाले मुनींद्र शुक्ला को बुरी तरह…

किस विधानसभा क्षेत्र में किसको मिले कितने वोट

विधानसभा चुनाव में महानगर में इस बार कमल खिल गया। नगर व ग्रामीण क्षेत्रों की दस सीटों में से सात पर भाजपा ने भगवा फहरा दिया, जबकि तीन पर उसे हार का सामना करना पड़ा। इनमें दो सीटों पर सपा ने विजय पताका फहरायी तो एक पर कांग्रेस ने कब्जा किया। ऐन चुनाव के वक्त एकाएक चली ‘‘मोदी लहर’ में भाजपा को तीन सीटों का फायदा तो हुआ, मगर नगर संसदीय क्षेत्र में उसे खासा नुकसान उठाना पड़ा। अप्रत्याशित नतीजों में उसके दो निवर्तमान विधायकों को हार का मुंह देखना पड़ा। आर्यनगर, कैंट व किदवईनगर के परिणाम अप्रत्याशित और बेहद चौंकाने वाले रहे।

कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष की जमानत जब्त

कल्याणपुर, किदवईनगर, गोविन्दनगर, बिल्हौर, बिठूर, घाटमपुर सीट पर कमल खिला। जबकि आर्यनगर से सपा के अमिताभ बाजपेयी, सीसामऊ से सपा के इरफान सोलंकी और कैंट से सोहेल अंसारी चुनाव जीत गए।

गर्मी की छुट्टी में मिड डे मील बांटने का आदेश वापस

सोमवार सुबह  टीम ने मिड डे मील बांटने के आदेश का स्कूलों में जाकर सत्यापन किया। टीम सुबह दस बजे प्राथमिक कन्या विद्यालय वार्ड 71 गांधी ग्राम पहुंची तो स्कूल में ताला पड़ा था। आसपास रहने वाले लोगों ने बताया कि 20 मई के बाद स्कूल नहीं खुले, न शिक्षक-शिक्षिकाएं आए और न बच्चे। प्राथमिक विद्यालय बिठूर स्टेशन खुला था। यहां पर हेडमास्टर मुनीस कुमार और सहायक अध्यापिका बृजबाला उपस्थित थीं लेकिन स्कूल में बच्चे एक भी नहीं थे। मुनीस कुमार ने बताया कि विद्यालय में 110 बच्चे हैं। 20 मई को स्कूल बंदी की घोषणा के बाद से कोई बच्चा नहीं आता है। न ही खाना सप्लाई करने वाली एनजीओ ही भेज रही है। प्राथमिक विद्यालय राजापुरवा में भी ताला पड़ा हुआ था।