कानपुर, मेरठ और आगरा में मेट्रो चलाने पर 43 हजार करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे

बुधवार को कैबिनेट की बैठक में कई अहम प्रस्तावों को मंजूरी प्रदान की गई। उत्तरप्रदेश में कानपुर, मेरठ और आगरा में मेट्रो चलाने पर 43 हजार करोड़ रुपये खर्च किए […]

Read Article →

कानपुर में मेट्रो ट्रैक के दोनों तरफ होगी सात-सात मीटर चौड़ी रोड

कानपुर : मेट्रो ट्रैक के दोनों तरफ सात-सात मीटर की चौड़ी रोड होगी। डिवाइडर के बीच से अगल-बगल तक तीन मीटर का हिस्सा मेट्रो का ट्रैक बनाने के लिए घेरा […]

Read Article →

कानपुर में मेट्रो के एसपीवी को राज्यपाल की मंजूरी

कानपुर : कानपुर में मेट्रो प्रोजेक्ट की राह की सबसे बड़ी बाधा दूर हो गई है। अभी तक कानपुर मेट्रो रेल कारपोरेशन के एसपीवी (स्पेशल परपज व्हीकल) को मंजूरी न […]

Read Article →

स्मार्ट सिटी बोर्ड की पहली बैठक

वीआईपी रोड पर बनेगा अपरगामी पुल,महानगर का जलापूर्ति और सीवेज सिस्टम सुधारने पर भी जोर ,मंडलायुक्त ने कहा विकास कार्य ऐसे हों कि जनता सराहना करेमेट्रो रेल परियोजना के निर्माण कार्य में भी तेजी लाने के निर्देश

Read Article →

नई सरकार से शहर में जागी मेट्रो की आस

कानपुर : छह माह से मेट्रो यार्ड से ही बाहर नहीं निकल पा रही है। 13721 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट में अभी तक पचास करोड़ रुपये से केवल दिखावा मात्र […]

Read Article →

मेट्रो रेल की राह में रोड़ा बनी मिट्टी

कानपुर : शहर में मेट्रो रेल की राह में बजट के साथ अब मिट्टी भी आड़े आ रही है। पालीटेक्निक में यार्ड बनाने के लिए चार लाख घनमीटर मिट्टी की […]

Read Article →

कनपुरियों से पीएम ने दागे 10 सवाल, मैनचेस्टर पर कुछ नहीं बोले

परिवर्तन रैली में लाखों की भीड़ देख गदगद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी से लेकर मौजूद लोगों से दस सवाल दागे, पर मैनचेस्टर के तमगे के बारे में एक शब्द नहीं बोले। इससे वहां पीएम को सुनने आए लोग दुखी हुए। केमिकल कारोबार राहुल बजाज ने कहा कि पीएम से उम्मीद थी की वह शहर की बंद पड़ी मिलों को चालू कराए जाने को लेकर कुछ कहेंगे, लेकिन वह सिर्फ नोटबंदी पर सफाई देकर निकल लिए।

Read Article →

सिस्टम और राजनीति के रेड सिग्नल पर खड़ी कानपुर मेट्रो को कब ग्रीन सिग्नल मिलेगा

वैसे तो कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के लिए निर्माण शुरू तो हो गया है मगर यह आशंका गहराने लगी है कि आगामी विधान सभा चुनाव के दंगल में यह प्रोजेक्ट न पिस जाए। अब कभी भी आदर्श आचार संहिता लागू हो सकती है। ऐसे में अगले छह माह तक इस मेट्रो के लिए कोई धनराशि शायद ही स्वीकृत हो पाए।

Read Article →

मेट्रो को 9405 करोड़ का लोन

कानपुर : 17092 करोड़ रुपये के मेट्रो प्रोजेक्ट को मूर्त रूप देने के लिए अब 9405 करोड़ का लोन लिया जाएगा। लोन देने को जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी (जाइका) और यूरोपियन इंवेस्टमेंट बैंक तैयार हैं। जाइका जहां 1.0 फीसद वार्षिक वार्षिक ब्याज दर पर लोन देना चाहती है तो यूरोपियन इंवेस्टमेंट बैंक 0.5 फीसद वार्षिक ब्याज दर पर लोन देने को तैयार हैं।

Read Article →

मेट्रो से बदलेगी साउथ की तस्वीर

मेट्रो रेल दौड़ने के साथ ही साउथ सिटी की तस्वीर भी बदलेगी। दूसरे चरण में सीएसए से बर्रा आठ तक मेट्रो चलेगी। इस रूट पर मेट्रो रेल चालू होने के बाद पांच लाख लोगों को ट्रैफिक के लोड से लगने वाले जाम व क्रासिंग बंद होने पर फंसने से राहत मिलेगी। साथ ही मेट्रो के रूट पर पड़ने वाले इलाके विकसित होने के साथ ही रोजगार के हब बन जाएंगे।

Read Article →

पूरब के मैनचेस्टर को मेट्रो

कानपुर : पूरब के मैनचेस्टर को मेट्रो की सौगात देने की आधारशिला रख दी गई। मंगलवार को पालिका स्टेडियम में भव्य समारोह में प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, केंद्रीय शहरी विकास, आवास एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्री एम. वेंकैया नायडू और सांसद डा. मुरली मनोहर जोशी ने बटन दबाकर 13,721 करोड़ रुपये की मेट्रो परियोजना का शिलान्यास किया। पालिका स्टेडियम में शिलान्यास के साथ ही पालीटेक्निक में मेट्रो यार्ड का काम शुरू हो गया।

Read Article →

जाइका ने कानपुर मेट्रो प्रोजेक्ट का सर्वे किया शरू

जाइका के प्रतिनिधियों ने कानपुर मेट्रो का सर्वे शुरू करा दिया है। सर्वे में कानपुर मेट्रो प्रोजेक्ट से जुड़े आर्थिक और सामाजिक फायदों का जानकारी जुटाई जा रही है। सर्वे के शुरुआती रुझानों के बाद से ही जाइका मेट्रो प्रोजेक्ट को लोन देने के लिए उत्साहित है। हालांकि एलएमआरसी को यूरोपियन बैंक अधिक भा रहा है।

Read Article →

कानपुर मेट्रो को मंजूरी इसी माह!

अक्तूबर में लोकार्पण की तैयारी
शहर में सीएम से मेट्रो प्रोजेक्ट का शिलान्यास कराने की भी रूपरेखा बनने लगी है। प्रशासनिक स्तर पर यह चर्चा का विषय बना रहा। सितंबर में यदि प्रोजेक्ट को मंजूरी मिल जाती है तो अधिकारी अक्तूबर में मेट्रो का शिलान्यास करा सकते हैं।

Read Article →